'
Breaking News

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए सबसे असरदार आयुर्वेदिक रामबाण नुस्खा।


आंखें हमारे शरीर के सबसे जरुरी अंगो में से एक होती हैं। आंखों कि रोशनी में थोड़ी सी भी कमी आने पर हमें काफी समस्या का सामना करना पड़ता है।
Eyesight का कम होना  (दूर का धुंधला दिखना) और  (पास का धुंधला दिखना) से भी जुड़ा हुआ है। कुछ विशेष कारक जैसे genetics, nutrition की कमी, बढ़ती उम्र  और आंखों पर अत्यधिक तनाव होने पर यह समस्या होती है।
आंखों की रोशनी कम होने के सबसे सामान्य लक्षण हैं –
धुंधली दृष्टि , अक्सर सिरदर्द होना  और आंखों में पानी आना .
इसकी मुख्य वजह का सही पता लगाने के लिए सबसे पहले अपने doctor से जांच कराएं। कभी-कभी यह परेशानी कुछ serious issues के कारण भी हो सकती है जैसे मोतियाबिंद, आंखों की मांसपेशियों का कमजोर या damage होना या से ग्रस्त होना आदि।
सामान्य तौर पर आंखों की कम रोशनी का इलाज डॉक्टर्स ही कर सकते हैं। लेकिन फिर भी आप कुछ घरेलू उपायों को अपनाकर अपनी आंखों की को बढ़ा सकते हैं।
आंखों की रोशनी बढ़ाने के 10 सबसे कारगर घरेलू उपचार नीचे दिए जा रहें हैं

1. आंखों के व्यायाम करें 

Eye exercise करने से आंखों की मांसपेशियां लचीली (flexible) होती हैं, उनमें खून का प्रभाह बढ़ता है और vision ठीक होता है। इसे regular करने से आंखों का तनाव भी कम होता है और concentration भी बढ़ता है।


Exercise – 1

  • एक पेंसिल को हाथ में vertically सीधा आंखों के सामने करें। पेंसिल बिलकुल नाम के सामने आंखों के बीच होना चाहिए। अपना ध्यान पेंसिल की नोंक पर बनायें रखें।
    अब धीरे-धीरे इस पेंसिल को अपनी आंखों के पास लायें और फिर दूर ले जाएं।
    इसे रोजाना 10 बार करें।

Exercise – 2

  • अपनी आंखों की पुतलियों को clockwise direction में घुमाएँ। ऐसे कुछ seconds के लिए करें।
  • अब इन्हें anti-clockwise direction में घुमाएँ।
  • इसे 4 से 5 बार repeat करें।
  • हर round के बीच में अपनी आंखों को झपकाएं।

Exercise – 3

  • अपनी आंखों की पलकों को लगातार बिना रुके 20 से 30 बार जल्दी-जल्दी झपकाएं।
  • अब अपनी आंखों को बंद करके उन्हें rest दें।
  • ऐसा दिन में 2 बार करें।

Exercise – 4

  • अपने से दो से तीन मीटर दूर रखी किसी वस्तु पर ध्यान लगायें। शुरुआत में ऐसा 5 मिनट के लिए करें और धीरे-धीरे समय बढ़ाते जाएं।
  • ध्यान लगाने के दौरान अपनी आंखों को बिलकुल भी न झपकाएं।
  • इस exercise को रोजाना कुछ महीनों के लिए करें।

2. Sunning और Palming

Sunning और palming भी आंखों की रोशनी के लिए काफी फायदेमंद होते हैं क्योंकि यह आंखों के लेंस और ciliary muscles को flexible और मजबूत बनाते हैं।
सूर्य में natural healing power होती है जिसे हम sunning के जरिये ग्रहण कर सकते हैं। Palming हमारे शरीर में relaxation लाती है और हमारे senses को सक्रिय करती है।

Sunning – सुबह जब सूरज पूर्व दिशा में हो तब उसके ठीक सामने आंखें बंद करके बैठ जाएं। इस दौरान deep breathing करते रहें और अपना ध्यान पलकों को पार करके आ रही सूरज की रोशनी पर लगाये रखें। ऐसा रोज कुछ मिनट के लिए फिर palming करें।
Palming – अपनी दोनों हाथों की हथेलियों को आपस में रगड़ें और फिर इन्हें अपनी दोनों बंद आंखों पर gently रख लें। हथिलियों को रगड़ने से पैसा हुई heat को अपनी आंखों में महसूस करें। इस दौरान यह ध्यान रखें कि आपकी आंखें आपकी हथेलियों से पूरी तरह से ढकी होना चाहिए और उनमें कोई रोशनी अन्दर नहीं जाना चाहिए। आप इसे रोज sunning के ठीक बाद करें। इसे आप दिन में कामकाज के दौरान बीच-बीच में भी कर सकते हैं।

3. Acupressure/Acupuncture

हमारी आंखें चारों तरफ से कुछ हड्डियों के combination से surrounded होती हैं जिन्हें acupressure/acupuncture points भी कहा जाता है।

  • चित्र में दर्शाए गए हर acupressure point की 10 मिनट के लिए हलके हाथों से मालिश करें। शुरुआत point #1 से करें और धीरे-धीरे गोल घूमते हुए point #7 तक आयें। दिन में इसे आप तीन-चार बार कर सकते हैं।
    Note – गर्भवती महिलाएं इसे करने से पहले किसी trained therapist से consult करें। यदि आंखों के चारों तरफ कोई scar, दाग, infection या जला हुआ भाग हो तो वहां मालिश न करें।
  • सुबह जल्दी उठकर ओश वाली घास में नंगे पैर 30 मिनट चलना भी acupuncture therapy का हिस्सा है। क्योंकि इससे पैरों के nerve fibers activate हो जाते हैं जो eyesight को improve करते हैं। पैरों की दूसरी और तीसरी उंगली में आंखों के लिए reflexology pressure points होते हैं जो activate होने पर आंखों की रोशनी बढ़ाते हैं। साथ ही सुबह-सुबह घास के हरे माहौल में घूमने से आंखों को सुख महसूस होता है।

4. Ginkgo Biloba Herb

Ginkgo Biloba एक पेड़ होता है जो चीन, जापान और इसके आसपास के इलाकों में पाया जाता है। प्राचीन समय से ही इसका भोजन और चिकित्सा में काफी इस्तेमाल होता आ रहा है। Ginkgo Biloba बाजार में capsule, powder और tea के रूप में आसानी से मिल जाता है।
आँखों के आसपास के खून के संचार को नियमित करता है। यह आंखों के vision को improve करने के साथ-साथ glaucoma और macular degeneration जैसी बिमारियों से भी बचाता है। हाल ही में हुई research से साबित हुआ है कि यह retinopathy के मरीजों के लिए भी फायदेमंद है।
Ginkgo biloba को anxiety में relieve देने वाला और याददाश्त बढ़ाने वाला herb भी माना जाता है। पागलपन (dementia) और Alzheimer’s की बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए यह काफी फायदेमंद है।
रोज 120-mg standardized ginkgo biloba capsules दो बार करें।
Note – इस herb को छोटे बच्चों को न दें और जो लोग मधुमेह (diabetes) से पीड़ित हैं वो इसे लेने से पहले अपने doctor से consult करें।

5. Bilberry

Bilberry भी आँखों के स्वास्थ्य और vision के लिए फायदेमंद herb है। यह रतौंधी के इलाज में भी उपयोगी साबित होती है क्योंकि यह retina के visual purple component के regeneration को stimulate करती है।
यह आंखों को macular degeneration, glaucoma और मोतियाबंद (cataract) जैसे गंभीर रोगों से भी बचाती है। इसमें powerful antioxidant, anti-inflammatory properties और anthocyanoside नामक chemical पाया जाता है जो diabetes और high blood pressure से related problems में फायदा होता है।

  • रोज ढेड़ कप पकी हुई bilberry खाएं।
  • आप doctor से consult करके bilberry के supplements भी ले सकते हैं।

Note – चूंकि यह अन्य herb और medicines के साथ भी interact कर सकता है इसलिए इसके dose लेने से पहले doctor से सलाह लें।

6. बादाम (Almond)

बादाम में omega-3 fatty acids, vitamin E और antioxidants पाए जाते हैं जो आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए उपयोगी हैं। यह याददाश्त और concentration को बढ़ाने में भी मदद करते हैं।

  • रात को 5 से 10 बादामों को पानी में डुबोकर रख दें।
  • सुबह इनके छिलकों को अलग करके पीस लें।
  • अब इसे दूध में घोलकर पी लें।
  • अपनी आंखों को स्वस्थ रखने के लिए इसका सेवन रोज करें।

7. सौंफ (Fennel)

सौंफ में ऐसे nutrients और antioxidants पाए जाते हैं जो cataracts के progression को slow करते हैं। Ancient Romans सौंफ को आंखों के लिए वरदान मानते थे।

  • सौंफ, बादाम और मिश्री को बराबर मात्रा में मिलाकर पीस लें।
  • रोज रात को सोने से पहले इसकी एक चम्मच को गर्म दूध में डालकर पियें।
  • इसे लगातार 40 दिनों तक रोज करें।
  • डिम या धीमी रोशनी में न पढ़ें क्योंकि इससे eye muscles में strain बढ़ता है।
  • काम के दौरान हर 20 मिनट के दौरान अपनी आंखों को थोड़ा rest दें।
  • धूप में निकलने के दौरान sunglasses का इस्तेमाल करें।
  • हमेशा अच्छी quality के eye cosmetics का ही इस्तेमाल करें।
  • अच्छी नींद लें क्योंकि नींद की कमी से आंखों पर strain बढ़ता है।
  • आंखों की रोशनी को बढ़ाने के कुछ और प्रचलित घरेलू नुस्खे
  • रोज पपीता का सेवन करने से आंखों की रोशनी तेज होती है।
  • सेव का मुरब्बा बनाकर सेवन करें और ऊपर से एक गिलास दूध पियें, ऐसा रोज करने से आपकी आंखें स्वस्थ रहेंगी।
  • नियमित रूप से फल और हरी सब्जियों का सेवन करें।
  • गाजर में अत्यधिक vitamin अ पाया जाता है। इसलिए इसका हलवा, सब्जी या सलाद बनाकर नियमित सेवन करें। आप इसे कच्चा भी खा सकते हैं।
  • काली मिर्च के पाउडर में पिसी मिश्री और घी मिलकर सेवन करने से भी आंखों की रोशनी बढ़ती है।
  • रोज नहाने से पहले अपने पैरों के तलवों में तेल की मालिश करें, इससे भी आंखों को काफी फायदा मिलता है।
  • सुबह-सुबह नंगे पैर ओस पड़ी घास में चलें। इससे आपकी कमजोर आंखें स्वस्थ हो जाएँगी।
  • सुबह उठकर आंखों पर ठन्डे पानी के छींटे मारें।
  • यदि आपकी आंखों में दर्द रहता है तो हरे धनिये का रस निकलकर छान लें और इसकी 2-2 बूंदें अपनी आंखों में डालें।
दादी नानी तथा पिता दादाजी के बातों का अनुसरण, संयम बरतते हुए समय के घेरे में रहकर जरा सा सावधानी बरतें तो कभी आपके घर में डॉ. नहीं आएगा। यहाँ पर दिए गए सभी नुस्खे और घरेलु उपचार कारगर और सिद्ध हैं। इसे अपनाकर अपने परिवार को निरोगी और सुखी बनायें। रसोई घर के सब्जियों और फलों से उपचार एवं निखार पा सकते हैं। उसी की यहाँ जानकारी दी गई है। इस साइट में दिए गए कोई भी आलेख व्यावसायिक उद्देश्य से नहीं है। किसी भी दवा, योग और नुस्खे को आजमाने से पहले एक बार नजदीकी आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श अवश्य ले लें।

Related posts

Leave a Reply