गर्मी के दिनों में कोल्ड ड्रिंक छोड़िये और नैचुरल चीज अपनाइए। इसमें सबसे पहले जिसका नाम आता है वह है दही, जो आपके दिल, दिमाग और पेट को शांत करता है। लेकिन जिन लोगों को दही खाना पसंद नहीं वे उसके जगह छास या छाछ पी सकते हैं। छास दही से बनी होती है जिसमें जीरा, कड़ी पत्ता, अदरक, नमक आदि डाला जाता है। छांस आपके पेट को शांत तो रखती ही है लेकिन इसके अलावा भी और भी कई फायदें होते हैं।

masala_buttermilk

फैट रहित कैल्सियम करें प्रदान करें

जिन लोगों को लैक्टोस इंटोलॉरेन्स होता है वे इस फैट रहित छास को पी सकते है।

हाई ब्लड प्रेशर को करें कम

जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार इसमें बायोएक्टिव प्रोटीन होता है जो एन्टीवायरल, एन्टीबैक्टिरीयल और एन्टी कैंसर गुणों के साथ कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है।

High-blood-pressure-early-pregnancy

एसिडिटी से दिलाये राहत

अगर आपको एसिडिटी के कारण पेट या छाती में जलन हो रहा है तो थोड़ा-थोड़ा करके छास पियें, मिनटों में आराम मिल जाएगा। छास में जो काली मिर्च और अदरक डाला जाता है उससे खट्टे डकार और एसिडिटी से मिलता है आराम।

विटामिन की कमी को करे पूरी

छास में विटामिन बी कॉमप्लेक्स, प्रोटीन और पोटाशियम होता है जो विटामिन की कमी को पूरा करने में सहायता करती है। विटामिन बी में राइवोफ्लेवीन होता है जो खाना को एनर्जी में बदलने का काम करता है।

हाजमा बढ़ाये

जब भी आप खाना खायें और आपको लग रहा है कि एसिडिटी या बदहजमी की संभावना है तो आप छास पी लें क्योंकि छास में जो मसालें इस्तेमाल किये जाते हैं वे हजम शक्ति को बढ़ाने में मदद करते हैं।

कोलेस्ट्रोल को करें कंट्रोल

आयुर्वेद के अनुसार एक गिलास छास पीना सेहत के लिए फायदेमंद होता है। यूएस नैशनल इंस्टिच्यूट के अनुसार अध्ययन के अनुसार छास में कोलेस्ट्रॉल को कम करने का प्रभावकारी गुण होता है।

Cholesterol

फैट को नहीं देता जमने

अगर आपने घी या तेल भरा खाना खाया है और इसके कारण जिस फैट के पेट में जम जाने की संभावना है उसको बाहर निकालने में छास मदद करती है। इसके अलावा अदरक और मसालें खाना को जल्दी हजम करने में भी मदद करते हैं।

डिहाइड्रेशन होने से बचायें

नमक,पानी, दही और मसालों से बने छास में इलेक्ट्रोलाइट होता है जो शरीर में जल की मात्रा को बढ़ाकर डिहाइड्रेशन से बचाता है।

dehydration

Loading...

Leave a Reply