तुलसी दो प्रकार की होती है श्यामा तुलसी और रामा तुलसी पर इन दोनों में से श्यामा तुलसी बहुत काम आती है | हिन्दू धर्म में लोग इसकी पूजा करते है लेकिन इसका प्रयोग करके हम अपनी बहुत सी बिमारियों से मुक्ति पा सकते है | आयुर्वेद में तुलसी से बनी हुई बहुत दवाइयां है | इसका प्रयोग करके हम बड़ी से बड़ी बीमारी को अपने शरीर से निकाल सकते है | इसलिए इसकी पूजा की जाती है | इसको संजीवनी बूटी भी कहा जाता है इस के उपचार इस प्रकार है |

तुलसी के प्रकार :-

तुलसी मुख्यत: दो प्रकार की  पायी जाती है जोकि घरों में लगाई जाती हैं। इन्हें रामा और श्यामा कहा जाता है।

रामा तुलसी :- रामा के पत्तों का रंग हल्का होता है। इसलिए इसे गौरी कहा जाता है।

श्यामा तुलसी :- श्यामा तुलसी के पत्तों का रंग काला होता है। इसमें कफनाशक गुण होते हैं। यही कारण है कि इसे दवा के रूप में अधिक उपयोग में लाया जाता है।

तुलसी के गुण :-

भारतीय संस्कृति में तुलसी को पूजनीय माना जाता है, धार्मिक महत्व होने के साथ-साथ तुलसी औषधीय गुणों से भी भरपूर है। आयुर्वेद में तो तुलसी को उसके औषधीय गुणों के कारण विशेष महत्व दिया गया है। तुलसी ऐसी औषधि है जो ज्यादातर बीमारियों में काम आती है। इसका उपयोग सर्दी-जुकाम, खॉसी, दंत रोग और श्वास सम्बंधी रोग के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है। यह कम कैलोरी वाली जड़ी बूटी एंटीऑक्सीडेंट, जलन और सूजन कम करने और जीवाणुरोधी गुणों से समृद्ध है। इसके अलावा, यह विटामिन ए, सी और के, मैंगनीज, तांबा, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम और ओमेगा -3 फैट्स जैसे आवश्यक पोषक तत्वों से परिपूर्ण है। यह सभी पोषक तत्व आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए बहुत ही अच्छे हैं।

और अधिक जानकारी के लिए मोबाइल एप्प भी डाउनलोड करें और निशुल्क जानकारी पाएं वो भी ऑफलाइन डाउनलोड के लिए यंहा क्लिक करें

तुसली का सेवन कैसे करें :-

वैसे तो अलग अलग बिमारियों में तुलसी को अलग-अलग तरीके से खाया जाता है या सेवन किया जाता है पर जादा टार इसका सेवन ऐसे किया जाता है जैसे –

1. तुलसी का सेवन प्रातःकाल करना चाहिए क्यूंकि आयुर्वेद के अनुसार ये खली पेट ही लाभ करती है |
2. कभी भी तुलसी के पत्तों को धुप में नहीं सुखाना चाहिए क्यूंकि इससे इसके गुणों में कमी आती है|
3. इसका सेवन इसी पत्तियों को पीस कर करना चाहिए जादा चबानी नहीं चहिये|

तुलसी के फायदे-(Tulsi ke fayde)

1. बुखार में फायदेमंद : जब किसी व्यक्ति को बुखार हो तो तुलसी के पत्तों का काढ़ा बनाकर उसको पीने से बुखार एक दम उतर जाता है | कितना भी तेज बुखार हो वो भी उतर जाता है इतनी फायेदेमंद है तुलसी बुखार में |

2. चिकन गुनिया में फायदेमंद : चमकी बुखार का इलाज : जिन लोगो को चिकुन गुनिया है वो लोग तुलसी के पत्तों का काढा बनाकर पिए करना क्या है की जेसे आप चाय बनते हो बस इसे ही काढ़ा बनान है थोड़े से पानी में तुलसी के 4-5 पत्ते डालकर उसको उबालो थोड़ी देर तक उस में थोडा सा गुड भी डाल सकते हैं फिर आपको ये सुबह – सुबह पीना है जिन्दगी में कभी भी चिकन गुनिया नहीं हो सकता है

3. दिल की बिमारियों में फायदेमंद : तुलसी में इतने औषधीय गुण है की इससे दिल की बिमारियों से बचा जा सकता है और इनका इलाज किया जा सकता है | तुलसी दिल की सभी बिमारियों की समस्या को दूर करता है | ये हमारे कोलेस्ट्राल के साथ-साथ blood pressure की समस्या को भी दूर करता है | करना क्या है आपको बीएस रोज सुबह- सुबह तुलसी की चार से पांच पत्तियां लेकर अच्छी तरह से चबानी है एसा करने से दिल की हर बिमारियों से बचा जा सकता है |

4. सर्दी में फायेदेमंद : यदि आपको सर्दी लग गयी है या फिर सर्दी से आपको बुखार चढ़ गया है तो तुलसी इसमें बहुत फयेमंद है आपको करना क्या है थोड़ी सी काली मिर्च, मिश्री, तुलसी के पत्ते पानी में अछे तरह से उबलने है मतलब आपको काढ़ा बनाना है फिर उसको पीना है 2 ही खुराक में सर्दी भाग जाएगी और बुखार भी उतर जाएगा |

5. चोट लगने में फायदेमंद : अगर आपके शरीर में कही चोट लग गयी है तो तुलसी के पत्ते घाव को भरने में बहुत काम आते है करना क्या है की तुलसी के एक दो पत्ते लेना और उनके साथ फिटकरी लेना जहा पर चोट लगी है वहा पे ये लगाने हैं क्युकी तुलसी में एंटी-बैक्टीरियल तत्व होते हैं जो की घाव को भरने नहीं देते हैं | जिससे की घाव जल्दी ठीक हो जाता है |

6. यौन रोगों में फायदेमंद :- पुरुषों में शारीरिक कमजोरी होने पर तुलसी के बीज का इस्तेमाल काफी फायदेमंद होता है. इसके अलावा यौन-दुर्बलता और नपुंसकता में भी इसके बीज का नियमित इस्तेमाल फायदेमंद रहता है|

7. चेहरे की चमक के लिए :- त्वचा संबंधी रोगों में तुलसी खासकर फायदेमंद है. इसके इस्तेमाल से कील-मुहांसे खत्म हो जाते हैं और चेहरा साफ होता है |

8. खांसी में फायदेमंद :- तुलसी खांसी में बहुत ही लाभ देती है वैसे तो अप तुलसी की सीरप भी ले सकते हैं पर अगर आप इस सीरप को घर पर भी बना ले तो बहुत अच्छा होगा करना क्या है की आपको 6-8 पत्ते तुलसी के लेने हैं और 4-5 लौंग लेनी है फिर इनको 1 कफ पानी में खूब उबालें और इसमें थोडा सा नामक भी डाल दें फिर इसे ठंडा कर लें फिर इसे पी लें ये नुस्खा खांसी में बहुत लाभ देता है|

9. उल्टी दस्त में फायदेमंद :- उल्टी दस्त होने पर तुलसी के सेवन से आराम मिलता है करना क्या है की आपको तुलसी की 8-10 पत्तियां लेनी हैं फिर कुछ शहद व् थोडा सा जीरा लेना हैं फिर सभी को मिला लें और पीस लें अब इस पेस्ट को मरीज को हर 2 घंटे में दें बहुत आराम मिलता है|

10. मुहु की बदबू को करे दूर :– सांस की बदबू को दूर करने में भी तुलसी के पत्ते काफी फायदेमंद होते हैं और नेचुरल होने की वजह से इसका कोई साइडइफेक्ट भी नहीं होता है | अगर आपके मुंह से बदबू आ रही हो तो तुलसी के कुछ पत्तों को चबा लें | इससे मुहु की बदबू भाग जाती है|

11. शारीरिक कमजोरी के लिए :- अगर आप अपने आप को कमजोर महसूस करते हैं तो आप रत को सोने से पहले 5-7 ग्राम तुलसी के बीज को गर्म दूध के साथ लें ऐसा करने से कुछ ही दिन में आपकी शारीरिक कमजोरी दूर हो जाएगी |

12. सर दर्द में फायदेमंद :- अगर आपके सिर में बहुत दर्द रहता है तो तुलसी का सेवन आपके सिर दर्द को खत्म कर देगा करना क्या है की आपको तुलसी के 10-12 पत्ते लेने हैं फिर इनको पीसना है पीसने के बाद आप इस को माथे पर लेप की तरह लगाएं इससे सिर दर्द में बहुत लाभ मिलता है नहीं तो आप नीम्बू और तुलसी के पत्तों का रश बराबर मात्रा में मिलाकर 2-2 चम्मच दिन में कम से कम 3-4 बार लें ऐसा करने से भी सिर दर्द में आराम मिलता है|

13. मस्तिष्क की गर्मी में फायदेमंद :- तुलसी मस्तिष्क की गर्मी के लिए बहुत ही फायदेमंद है अगर आप इसका सही सेवन करेंगे तो मस्तिष्क की गर्मी दूर होकर मस्तिष्क तरोताजा बनेगा करना क्या है की आपको प्रतिदिन 5-7 तुलसी के पत्ते और उसमें 1-2 काली मिर्च मिलाकर पीसे और इसको प्रतिदिन एक गिलास पानी में मिलाकर पीयें ऐसा करने से मस्तिष्क की गर्मी दूर होती है|

14. नकसीर में फायदेमंद :- नकसीर का अर्थ होता है नाक में से खून का बहना – इस रोग में आप तुलसी के पत्तें का पेस्ट बनाकर अथार्त चटनी सी बनाकर फिर उसे कपडे में भींचकर नीक में 3-4 बूँद डाले ऐसा करने से कुछ ही दिनों में नाक से खून आना बंद हो जाते हैं |

15. दमा रोग में फायदेमंद :- दमा रोग में आप तुलसी के 8-10 पत्ते और 3-4 काली मिर्च दोनों को मिलाकर सेवन करें ऐसा करने से दमा रोग में आराम मिलता है|

मित्रो बहुत ही हर्ष के साथ आप सभी को सूचित किया जाता है की इस वेबसाइट की एप्प लांच कर दी गयी है आप सभी से निवेदन है की इसे डाउनलोड कर हमे आर्शीवाद दें ताकि हम आप लोगो की सेवा इसी तरह करते रहें इसे डाउनलोड करें और अपनों मित्रों को भी बताएं डाउनलोड करने के लिए यंहा क्लिक करें और अधिक जानकारी पाएं

Leave a Reply