डायबिटीज कंट्रोल के घरेलू उपाय और मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार डायबिटीज को हिंदी में शुगर और मधुमेह के नाम से जानते है जो आज के समय में एक आम रोग है। डायबिटीज होने पर खून में sugar की मात्रा बढ़ने लगती है।आज के लेख में हम आपको बतायेंगे डायबिटीज कंट्रोल के घरेलू उपाय और मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार के बारे में डायबिटीज ये 2 प्रकार की होती है टाइप 1 और टाइप 2, इस बीमारी से पीड़ित रोगी के मन में अक्सर कुछ सवाल होते है जैसे क्या डायबिटीज जड़ से खत्म हो सकती है, शुगर तुरंत कम करने के उपाय कैसे करे और डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए दवा डाइट योग और ट्रीटमेंट का तरीका क्या है। मधुमेह से छुटकारा पाने और कंट्रोल में रखने के लिए बहुत से लोग अंग्रेजी दवा का सहारा लेते है पर बिना मेडिसिन के भी इस रोग का रामबाण इलाज कर सकते है। तो मित्रों आइये जानते हैं डायबिटीज कंट्रोल के घरेलू उपाय और मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार के बारे में

मधुमेह को जड़ से खत्म करने का उपाय

डायबिटीज कंट्रोल के घरेलू उपाय डायबिटीज कंट्रोल के घरेलू उपाय डायबिटीज कंट्रोल के घरेलू उपाय और मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार diabetes control
डायबिटीज कंट्रोल करने के घरेलू उपाय

डायबिटीज या मधुमेह के लक्षण

  • बार बार पेशाब लगना
  • ज्यादा प्यास लगना
  • वजन कम होना
  • थकान जल्दी होना
  • चोट और घाव धीरे धीरे ठीक होना

डायबिटीज कंट्रोल के घरेलू उपाय और मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार

diabetes control karne ke gharelu upay or ayurvedic upchar

ये रोग दो प्रकार का होता है पहला जिसमें हमारे शरीर में इंसुलिन नहीं बनता, इसे हम type 1 diabetes कहते है और दूसरा वो जिसमें शरीर में इंसुलिन तो बनता है पर वो पर्याप्त मात्रा में नहीं बनता या जो इंसुलिन बनता है वो ठीक से काम नहीं करता, इसे type 2 diabetes कहते है।

मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार डायबिटीज कंट्रोल के घरेलू उपाय डायबिटीज कंट्रोल के घरेलू उपाय और मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार
मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार

करेले से उपचार

इस उपाय को करने के लिए सुबह खाली पेट करेले का जूस पीना चाहिए। 2 से 3 करेले काट कर बीज अलग कर ले फिर इसका रस निकल कर इसमें थोड़ा पानी मिला कर पिए। इसके इलावा करेला अपने आहार में भी शामिल करे। टाइप 1 और 2 मधुमेह के उपचार और इसे नियंत्रण में रखने के लिए करेला देसी दवा का काम करता है। करेला ब्लड में sugar level कंट्रोल करने में उपयोगी है। करेले का जूस डायबिटीज कंट्रोल के घरेलू उपाय और मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार में सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाता है

मधुमेह की अचूक दवा

 

डायबिटीज कंट्रोल के घरेलू उपाय और मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार

एलोवेरा से उपचार

एलोवेरा के पत्ते 1 गिलास पानी में रात भर के लिए भीगने को रख दे फिर सुबह खाली पेट इस पानी का सेवन करे।डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए एलोवेरा का रामबाण काम करता है। इसके सेवन से कुछ ही दिनों में डायबिटीज कम होने लगती है। Aloe vera के पत्ते छील कर इसका रस भी पी सकते है और सब्जी बना कर भी खा सकते है।

जामुन से उपचार

जामुन भी रक्त में शुगर लेवल कम करने में असरदार है। जामुन का फल, बीज और इसके पत्ते सभी मधुमेह से छुटकारा पाने में उपयोगी है। जामुन के सूखे बीज पीस कर पाउडर बना ले और दिन में 2 बार पानी के साथ ले।

आम से उपचार

आम के पत्ते sugar control करने में एक अचूक आयुर्वेदिक उपचार है। आम के 10 से 12 पत्ते ले कर 1 गिलास पानी में रात भर के लिए भिगो कर रखे और सुबह इस पानी को खाली पेट पिए। इसके इलावा आम के पत्ते छाया में सूखा कर पीस ले और दिन में 2 बार इसका आधा चम्मच पाउडर हर रोज ले।

गेहूं के ज्वारे से उपचार

गेंहू के ज्वारे जिसे wheatgrass कहते है ये कई प्रकार के रोगों में अचूक इलाज करता है। गेंहू के 5 से 7 दिन के ज्वारे में कार्बोहाइड्रेट्स मौजूद होते है जो ब्लड में शर्करा को नियंत्रित करता है।  गेहूं से मधुमेह का इलाज करने में मदद मिलती है। मधुमेह टाइप 2 के उपचार में भी इसका सेवन करने से फायदा मिलता है।

मेथी के दाने से उपचार

Diabetes control karne ke upay में मेथी भी प्रयोग किया जाता है। मेथी रक्त में शर्करा का स्तर ठीक करने का अच्छा तरीका है। मेथी के 2 चम्मच दाने रात भर के लिए 1 गिलास पानी में भिगो कर रखे फिर अगली सुबह खाली पेट इन्हें चबा चबा कर खाएं और पानी पिए।

दालचीनी से उपचार

दालचीनी में ब्लड में शुगर का लेवल कम करने की क्षमता होती है। 1 चम्मच दालचीनी का पाउडर 1 कप गुनगुने पानी में मिला कर हर रोज पिए ये दालचीनी की 2 से 4 लटें 1 कप पानी में उबाल ले और ठंडा होने पर पिए।

डायबिटीज की पतंजलि की दवा

दिव्य मधुनाशिनी वटी बाबा रामदेव की बताई एक आयुर्वेदिक दवा है जो डायबिटीज का इलाज और इस को कंट्रोल करने में उपयोगी है। इस दवा की 2 गोली सुबह और शाम खाली पेट ले। अपनी डायबिटीज के अनुसार इस दवा की सही मात्रा आयुर्वेदिक चिकित्सक से जरूर जाने।

डायबिटीज का घरेलू उपाय diabetes ka gharelu upay in hindi

  • सहजन के पत्ते पानी में पीस ले और इसका जूस निकाल ले। खाना खाने से आधा घंटा पहले इस का सेवन करे। इस घरेलू नुस्खे के करने से कम से कम एक घंटे पहले और बाद में कोई भी medicine ना ले। जो लोग इंसुलिन की दवा लेते है उनके लिए ये नेचुरल इंसुलिन है।
  • 3 से 4 हरे प्याज जड़ के साथ ले और धो कर रात भर के लिए 2 लीटर पानी में भिगो कर रखे फिर सुबह इसका सेवन करे। एक ही बार में सारा पानी मत पिए दिन में जब भी प्यास लगे ये पानी पिए। लगातार 1 महीना ये उपाय करने पर मधुमेह जड़ से खत्म करने में मदद होती है।
  • सदाबहार के पत्ते और इसके फूल भी डायबिटीज ट्रीटमेंट में एक अचूक आयुर्वेदिक नुस्खा है।
  • गुड़हल के पत्तों की चटनी बना कर 3 से 4 चम्मच 1 गिलास पानी में दाल कर रात भर के लिए रखे फिर सुबह को इसे खाली पेट पिए। 10 से 15 दिन इस उपाय को करने पर पूरी तरह से diabetes control हो जाएगी।
  • मधुमेह का रामबाण इलाज तभी हो सकता है जब आप तनाव मुक्त रहे और आपकी जीवनशैली का तरीका अच्छा हो। डायबिटीज के उपचार और इस रोग से बचने के लिए अपनी दिनचर्या में योग और एक्सरसाइज को शामिल करे।
  • मखाने के 4 से 5 दाने हर रोज सुबह खाली पेट खाने से डायबिटीज से छुटकारा पाने में मदद मिलती है।

डायबिटीज से बचने के उपाय

  1. मोटापा और वजन ना बढ़ने दे, अच्छी नींद ले।
  2. ज्यादा मीठा खाने से परहेज करे।
  3. तनाव मुक्त रहे और योग मेडिटेशन करे।
  4. बिना डॉक्टर की सलाह कोई दवा नहीं लेनी चाहिए।
  5. डायबिटीज हो तो घाव चोट से पैरों को बचाये।

मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार

हल्दी से मधुमेह का इलाज   Turmeric for diabetes

हल्दी अपनी शक्तिशाली चिकित्सा शक्तियों के लिए जानी जाती है और हर किसी के रसोई घर में इसका अपना विशेष स्थान है। यह रक्त में शर्करा के स्तर को कम करती है और मधुमेह के मूल कारणों को हल करने में भी मदद करती है। प्रभावी और जल्दी परिणाम के लिए आँवला और हल्दी को मिला सकते हैं। बस आप अपने आहार में हल्दी की 2-3 ग्राम खुराक शामिल करे और इसके लाभ का आनंद लें।

नीम से मधुमेह का इलाज   Neem for diabetes in Hindi

नीम के पत्ते औषधीय मूल्य से भरे हुए हैं और ये आसानी से उपलब्ध भी हो जाते हैं। नीम कफ दोष का संतुलन बनाए रखता है और इंसुलिन अर्क पर निर्भरता को कम करता है। वैदिक और पारंपरिक स्वास्थ्य से संबंधित शास्त्रों में उल्लेख किया गया है कि नीम मधुमेह की हालत में सुधार करता है। यह न केवल शरीर में शर्करा के स्तर को कम करता है, बल्कि रक्त के प्रवाह को सामान्य बनाकर हृदय विकार जैसी जटिलताओं को रोकने में भी मदद करता है। आप नीम के 4-5 पत्ते चबा सकते हैं या इनका रस भी पी सकते हैं।

मित्रों आपको हमारा डायबिटीज कंट्रोल के घरेलू उपाय और मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार का ये लेख कैसा लगा हमे जरूर बताएं और अगर आपके पास भी डायबिटीज कंट्रोल के घरेलू उपाय और मधुमेह का आयुर्वेदिक उपचार का कोई नुस्खा हो तो हमारे साथ शेयर जरूर करें

 

Leave a Reply