Ripe red grape with leaves isolated on white

अगर आप नियमित तौर पर अंगूर का सेवन करते हैं तो आप कभी भी मधुमेह का शिकार नहीं होंगे क्योंकि अंगूर में वे तत्व होते हैं जो आपको मधुमेह से बचाते हैं। अंगूर का सेवन मधुमेह के एक अहम कारक मेटाबोलिक सिंड्रोम के जोखिम से बचाता है। अंगूर शरीर में ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करता है। शोधों में भी यह बात साबित हो चुकी है कि जो लोग नियमित रूप से अंगूर का सेवन करते हैं उनमें मधुमेह का खतरा काफी कम होता है। शोध के मुताबिक अंगूर जैसे फाइटोकैमिकल से भरपूर फल खाने से लोगों को इसका फायदा मिलता है। मधुमेह रोगियों को अपने आहार में विटामिन, मिनरल व फाइबरयुक्त फलों को शामिल करना चाहिए। जिन फलों में कार्बोहाइड्रेट होता है उनके सेवन से शरीर में ब्लड ग्लूकोज का स्तर ठीक रहता है।

APPLES-GRAPES मधुमेह रोगी भी अंगूर खा सकते हैं APPLES GRAPES

अंगूर और मधुमेह

आधा कप अंगूर से आपको 52 कैलोरी मिलती है। अंगूर प्राकृतिक रुप से मीठा होता है इसमें किसी तरह का शुगर नहीं होता है। मधुमेह रोगी अंगूर जैसे अन्य फल जो प्राकृतिक रुप से मीठे हो, खा सकते हैं। इससे किसी तरह का खतरा नहीं होता है। लाल अंगूर में फाइबर भी पाया जाता है इसके अलावा एक अलग तरह का कार्बोहाइड्रेट भी पाया जाता जिससे ब्लड शुगर का लेवल नहीं बढ़ता है। अंगूर में ग्लूकोज पाया जाता है जो रासायनिक प्रकिया के जरिए शरीर द्वारा सोख लिया जाता है, इसलिए अंगूर खाने के बाद आपको तुरंत ऊर्जा का एहसास होता है। अंगूर को सुबह खाली पेट खाना ज्यादा फायदेमंद माना जाता है। अंगूर के सेवन से मधुमेह के अलावा आपका हृदय भी स्वस्थ रहता है साथ ही आप ब्लड प्रेशर की समस्या से भी बच सकते हैं। मधुमेह में हृदय रोग व रक्तचाप की समस्या बहुत ही खतरनाक साबित हो सकती है।

fruit montage मधुमेह रोगी भी अंगूर खा सकते हैं fruits
fruit montage

अंगूर के अन्य फायदे

  • अंगूर दिमाग के लिए काफी फायदेमंद होता है। अक्सर बच्चों को परीक्षा के समय उनके माता-पिता खाने के लिए अंगूर देते हैं क्योंकि इससे उनके दिमाग को रिफ्रेशमेंट मिलता है और यादद्दाशत मजबूत होती है।
  • अंगूर का सेवन गुर्दे के रोग में भी किया जाता है। अंगूर गुर्दे व लीवर से विषैले तत्व को बाहर निकालता है।
  • जुकाम में प्रतिदिन 50 ग्राम अंगूर खाने से जुकाम से छुटकारा मिल जाता है।
  • अंगूर खाने से ब्लड प्रेशर भी सामान्य रहता है।
  • कैंसर रोग में पहले तीन दिन थोड़े अंगूर का रस सेवन करें फिर धीरे-धीरे एक गलास तक पानी की आदत डालें।
  • टायफाइड बुखार में मुनक्का सेवन करना फायदेमंद रहता है। इससे पेट साफ होता है तथा मल भी जमा नहीं होता।
  • चेचक के रोगी को अंगूर खिलाने से आराम मिलता है।
  • आधा सिर के रोगी को जिसमें दर्द सूर्योदय से पहले प्रारम्भ होता है, और सूर्य के साथ ही बढ़ता जाता है। इस स्थिति में आधा कप अंगूर का रस सूर्योदय से पहले पीने से सिरदर्द ठीक हो जाता है।
  • अंगूर आपके हृदय को स्वस्थ रखता है जिससे आप हृदय रोगों से दूर रहते हैं। हृदय में दर्द हो तो अंगूर का आधा कप रस पीने से आराम मिलता है।
  • अंगूर को नमक, काली-मिर्च के साथ खाने से कब्ज में लाभ होता है।
  • गुर्दे के दर्द में अंगूर के ताजा पत्ते लगभग 50 ग्राम पानी में पीसकर थोड़ा नमक मिलाकर छान लें इसे रोगी को पिलाने से दर्द में लाभ होता है।

Leave a Reply