अरंडी के तेल (Castor Oil) को सदियों से भारतीय स्वास्थय दर्शन में विशिष्ट स्थान दिया गया है, ये अनेकों बिमारियों को सही कर सकता है, इसका पेड़ गाँवों में खेतों में बड़ी आसानी से मिल जाता है, और भारत इसको बहुत बड़ी मात्रा में एक्सपोर्ट करता है. इसका तेल इसके बीजों की मींगी (गिरी) से प्राप्त किया जाता है. पेट साफ़ करने के लिए ये बहुत उत्तम औषिधि है. अरंड के तेल को egypt वासी भी बहुत इस्तेमाल करते थे.

इसके साथ में बेकिंग सोडा अपने गुणों के कारण अति विशेष है. इसके अल्काइन सब्सटेंस में एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल, एंटीसेप्ट‍िक और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण मौजूद होते हैं.

आज हम चर्चा करेंगे इन दोनों को आपस में मिलाकर लगाने से कैसे एड़ी या घुटनों का दर्द सही करें. आइये जाने.

इसके लिए ज़रूरी सामान.

  • अरंड का तेल
  • बेकिंग सोडा
  • गर्म पानी की बोतल मसाज के लिए.
  • Aluminium foil

इस्तेमाल की विधि.

घुटनों के दर्द दूर करने और यहाँ पर रक्त का अच्छे से परिसंचरण करने के लिए बहुत मददगार है. पहले आप दर्द वाले स्थान को बेकिंग सोडा को पानी में मिलाकर अच्छे से धुलाई कर लीजिये, अभी इस पर अरंड का तेल लगा लीजिये, और इस के ऊपर रसोई में रखा हुआ Aluminium foil लपेट लीजिये, अभी इसके ऊपर गर्म पानी की बोतल से सेक कीजिये, और 60 मिनट तक इसको बांधे रखिये, ऐसा 40 दिन तक करें. और फिर देखें नतीजे

एड़ी का दर्द – बेकिंग सोडा और कैस्टर तेल को मिलाकर एड़ी दर्द के स्थान पर भी उपरोक्त बताई गयी घुटनों के दर्द वाली विधि से लगाएं. ये प्रयोग आप 30 से 50 दिन तक करें.

टखने का दर्द – उपरोक्त यही विधि आप टखने के दर्द में भी अपनाएं.

इस प्रयोग का असर तो पहले ही दिन में दिखने लगेगा. फिर भी आप इसको 1 से 2 महीने तक करें. और जो भी भाई बहने ये प्रयोग करें वो अपना अनुभव ज़रूर बताये.

Loading...

Leave a Reply