हम आपको गन्ने के रस को पिने से होने वाले फायदों के बारे में बताएंगे दोस्तों इन गर्मियों के दिनों में हर जगह पर गन्ने के रस दिख जायेगा और लोग उसको बड़े ही चाव से पीते है और पिए भी क्यों नहीं क्योकि गन्ने के रस का स्वाद होता ही है इतना जबरदस्त

गन्ने के रस से हमारे शरीर को क्या फायदे होते है

  • ह्रदय रोगों से बचाव
  • पाचन को ठीक करता है
  • वजन घटने में रामबाण
  • डायबिटीज का इलाज
  • स्किन में ग्लो लाता है

और अधिक जानकारी के लिए मोबाइल एप्प भी डाउनलोड करें और निशुल्क जानकारी पाएं वो भी ऑफलाइन डाउनलोड के लिए यंहा क्लिक करें

गन्ने रस के स्वास्थ्य लाभ

गन्ने की अनेक किस्में होती हैं जिसमें सफेद, काली, भूरी आदि होती हैं। लाल गन्ने का रस बहुत मीठा होता है।
★ गन्ना(Ganna) जितना अधिक मीठा होता है उतना ही गुणकारी होता है। कच्चा, अधपका, पका और ज्यादा पका (जरठ) इस प्रकार किस्म भेद के कारण गन्ने के गुणों में अन्तर पड़ जाता है।
★ गन्ने के जड़ में अत्यन्त मधुर, मध्य भाग में मधुर और अग्रभाग में (चोटी पर) तथा गांठों में खारा रस होता है।
★ गर्मी के मौसम में तो गन्ने का रस अमृत के समान लाभकारी होता है।
★ दांतों के द्वारा गन्ने को चूसने से गन्ने का रस पित्त तथा रक्तविकार का नाश करने वाला, शर्करा के समान शक्तिप्रद, कफ-कारक और जलन को नष्ट करने वाला है।
★ मशीनों या यन्त्रों से पेरकर निकाला हुआ गन्ने का रस- मूल अग्रभाग, जीव जन्तु और गांठों के साथ-साथ पिस जाने से मैलयुक्त होता है। अधिक समय तक रखा रहने के कारण विकृत बनकर जलन भी उत्पन्न करता है। यह मल को रोकता है और पचने में भारी पड़ता है। यन्त्र या मशीनों से निकाला गया रस दाहकारक (जलन) और अफारा (गैस) करने वाला होता है।
★ गर्मियों में गन्ने का ताजा रस निकालकर उसमें नमक डालकर एवं नीबू निचोड़कर पीना बहुत अधिक स्वादिष्ट और लाभकारी होता है।
★ वात एवं पित्त से जिनका वीर्य दूषित हो गया हो उनके लिए गन्ने का रस लाभप्रद है।
★ गन्ने का रस पेशाब के अवरोध को खत्म करता है। यह गले के लिए भी हितकारी है।
★ गन्ना शर्करा की तरह मधुर (मीठा) होता है। यह पुष्टिबल (ताकत) देने वाला और तृप्तदायक (प्यास) बुझाने वाला है।
★ अम्लपित्त, थकान, मूत्रकृच्छ, भ्रम, जलन, प्यास और दुर्बलता में गन्ना का रस लाभप्रद है।
★ पीलिया रोग में गन्ना बहुत ही लाभकारी होता है। पीलिया से पीड़ित रोगी को गन्ने को चूसकर सेवन करना चाहिए। इससे पेशाब खुलकर आता है और पीलिया में शीघ्र ही आराम मिलता है।
★ गन्ने का रस चूसने से थकान दूर होती है। इसका रस स्त्रियों के स्तनों में दूध की वृद्धि करता है। यह शरीर को शक्तिशाली और बुद्धिमान बनाता है और वीर्य की वृद्धि करता है।
★ जिन्हें थोड़ा सा ही परिश्रम करने से थकान हो जाती है। उनके लिए गन्ने का रस बहुत ही लाभकारी होता है।
★ शरीर के किसी भी हिस्से में होने वाली जलन के लिए गन्ना लाभकारी होता है।
★ गन्ने (Ganna)का रस भोजन से पहले सेवन करने से पित्त का नाश होता है। यह बाद में खाने से वायु (गैस) तथा मन्दाग्नि (भूख) करता है।

★ गन्ने का कोई भी हिस्सा व्यर्थ नहीं होता है। इसके जड़ के टुकड़े पशुओं को खिलाएं जाते हैं।
★ सभी प्रकार के गन्ने का रस (ganne ka juice)-पित्त को मिटाने वाला, बलप्रद, वीर्य शक्ति को बढ़ाने वाला, कफ को बढ़ाने वाला, रस तथा पाक में मीठा, चिकना, भारी, मूत्रवर्धक और शीतल है।
★ कच्चा गन्ना कफ, भेद तथा प्रमेह उत्पन्न करता है। मध्यम गन्ना वायुनाशक, मधुर और पित्तनाशक है।

मित्रो बहुत ही हर्ष सूचित किया जाता है की इस वेबसाइट की एप्प लांच कर दी गयी है आप सभी से निवेदन है की इसे डाउनलोड कर हमे आर्शीवाद दें ताकि हम आप लोगो की सेवा इसी तरह करते रहें इसे डाउनलोड करें और अपनों मित्रों को भी बताएं डाउनलोड करने के लिए यंहा क्लिक करें और अधिक जानकारी पाएं

Leave a Reply