मधुमेह के लिए होमियोपैथी की दवाइयाँ

मधुमेह के रोग में उपयोग में आने वाली दवाईयों को छह समूहों में बांटा जा सकता है, जैसे कि अम्ल (एसिड), धातु, अन्य खनिज (मिनरल), सब्जियां, जानवरों से प्राप्त औषधियां, और ओर्गनो थेरपिक उपचार ।

मधुमेह के उपचार के लिए प्रयोग होने वाले अम्ल

  • अन्य खनिज पदार्थ (मिनरल) – जैसे कि आर्स एल्ब, सल्फर, सिलिसिआ, आइओडम, नेट्रम सल्फ, सब्जियां (जैसे कि सेफ़ालन्ड्रा इंडिका, चिमाफिला, चिओननथस, चिना, कुरारा, नग वोम, हेलेबोरस नाइजर), जानवरों से प्राप्त होनेवाले उत्पाद (जैसे कि मोसचस, क्रोटालस होरीडस, लेचेसिस, टरेंटुला और लेक़ डिफ्लोरेटम) का उपयोग करने का निर्देश हर रोगी के वैयक्तिक विशेषताएं और लक्षणों के आधार पर बनाए जाते हैं।
  • एसेटिक एसिड (सिरका अम्ल) , लेक्टिक एसिड (दुग्ध अम्ल), फ़ॉस्फोरिक एसिड, नाइट्रिक एसिड, पिकरिक एसिड, कार्बोलिक़ एसिड, और फ्लोरिक एसिड । एसिड का उपयोग बेहद कमज़ोरी से या स्थायी कमज़ोरी से पीडित रोगियों में किया जाता है। एसिड अम्लरक्तता (एसिडोसिस) को टाल सकता है, जो कि ‘डायबीटिक मेलिटस’ का सबसे बड़ा खतरा है।
  • इंसुलिन, एक ओर्गेनो थेरेपिक उपचार मधुमेह के गम्भीर मामलों में, दुबले पतले क्षयरोगियों में और कोमा में किया जाता है। पेनक्रेअटिन, एड्रेनलिन, यूरिया, लेक्टिथिन अन्य ओर्गेनो थैरेपिक उपचार हैं। डायबीटिज़ मेलिटस के लिए बायोकेमिक उपचार नट मुर, नट सल्फ़, नट फ़ोसम कलि मुर और कलि सल्फ़ हैं।
  • औरम मेट, अर्जेंटम मेट, अर्जेंटम नाइट्रिकम, यूरेनियम नाइट्रिकम, वनाडिरम, प्लमबम मेट, कप आर्स- इन धातुओं का उपयोग मधुमेह के इलाज के लिए किया जाता है

होमियोपैथी उपचार की सावधानी

यदि आप मधुमेह के रोगी हैं, और होमियोपैथी चिकित्सा का उपयोग करना आपका अपना निर्णय है, लेकिन इस चिकित्सा का उपयोग सावधानी से करें। इन दवाओं का शरीर पर असर होता तो है, और ये दवाईयां आपके रक्त में शर्करा का स्तर को नियंत्रित करने में आपकी मदद कर सकती हैं। फिर भी यदि ये दवाईयां आपको फ़ायदा पहुंचांती हैं, तो भी आप मधुमेह के लिए नियमित तौर पर ली जाने वाली इंसुलिन या अन्य दवा उपचार को बन्द करने से पहले अपने चिकित्सक की राय अवश्य लें। इस चिकित्सा के असर को जांचने के लिए अपने रक्त के शुगर का निरीक्षण करते रहें। ‘डाइबीटिक कोमा’ जैसी आपातकालीन स्थिति में होमियोपैथी चिकित्सा प्रमुख उपचार के जितनी असरकारक नहीं हो सकती है।

Loading...

Leave a Reply