पेट दर्द में दर्द छाती और पेल्विक रीजन  के बीच उभरता है। यह दर्द तेज, हल्का, चुभनवाला और मरोड़ वाला हो सकता है। पेट में किसी भी हिस्से में कोई भी तकलीफ होने पर पेट दर्द हो सकता है। वायरल या बैक्टीरियल इंफेक्शन जो पेट और आंतों को प्रभावित करते हैं, के कारण भी पेट दर्द हो सकता है। पेट दर्द आम समस्या है लेकिन कई बार पेट का दर्द किसी गंभीर बीमारी का संकेत भी हो सकता है।

पेट दर्द कई तरह का होता है

  • इस तरह का दर्द पित्त  या किडनी  में पथरी  के कारण होता है। यह दर्द अचानक से उठता है और सारी मांसपेशियां पूरी तरह से दबाव महसूस करने लगती हैं।
  • इस तरह का दर्द पेट में एक ही जगह पर सीमित रहता है। यह दर्द पेट  में किसी खास हिस्से में परेशानी के कारण होता है, जैसे कि अल्सर आदि।
  • क्रैंप या मरोड़ वाला दर्द डायरिया, कब्ज, गैस या मासिक धर्म आदि के कारण होता है। यह दर्द आता- जाता रहता है यानि की लगातार नहीं होता और बिना इलाज के भी ठीक हो जाता है।

stomach pain 3

पेट दर्द के लक्षण

  • उल्टी
  • पेट का निचला हिस्सा सख्त होना
  • बुखार
  • पेट में गैस बनना
  • डिहाइड्रेशन
  • पेट पर कोई चोट लगना
  • किसी कारणवश शौच न जा पाना
  • बार-बार पेशाब जाना
  • पेट का फूलना

पेट दर्द के कारण

पेट का दर्द कई कारणों से हो सकता है। गले, आंत या रक्त के कारण बैक्टीरिया पेट में पहुंच जाते हैं जिससे पाचन क्रिया प्रभावित होती है और पेट दर्द होता है। इसी तरह के इंफेक्शन के कारण डायरिया और कब्ज भी हो सकता है। महिलाओं में मासिक स्त्राव के कारण भी पेट दर्द की समस्या हो सकती है।
पेट में दर्द किस हिस्से में है, इस स्थिति को देखते हुए भी निम्न कारण भी हो सकते हैं:

  • पेल्विक इन्फ्लेमैट्री डिजीज
  • कब्ज
  • गैस
  • अपच
  • मासिक धर्म
  • पित्त की थैली में पथरी
  • यूरीनरी ट्रेक्ट इंफेक्शन
  • खाने से एलर्जी
  • किडनी में पथरी
  • अपेंडिक्स
  • हार्निया
  • अल्सर

 

Loading...

Leave a Reply