हार्ट अटैक या हृदय आघात हाल के सालों में सर्वाधिक होने वाली लाइफस्टाइल बीमारी है। हृदय में ब्लॉकेज के कारण होने वाली इस बीमारी से दुनियाभर में कई लोग पीड़ित हैं और कई जान गंवा चुके हैं। हार्ट अटैक के पचास प्रतिशत मरीजों की अस्पताल पहुँचने से पहले ही मृत्यु हो जाती है। हर साल भारत में 30 लाख लोगों की मौत दिल की बीमारी से होती है।

क्या है हार्ट अटैक 

हमारे दिल का वज़न लगभग 340 ग्राम होता है। शरीर में नियमित रक्त संचार बनाये रखने के लिए हमारा दिल किसी पंप की तरह काम करते हुए एक दिन में एक लाख बार धड़कता है। इस पंप को सदैव चालू रखने के लिये इसमे खून की सप्लाई एक अलग रक्त वाहिका के द्वारा होती हैं, जिसे कोरोनरी आरटेरी कहते हैं।
समय के साथ कोरोनरी आरटेरी  की दीवारो पर चिकनाई जमती रहती है। कैलशियम और अन्य चीज भी उस चिकनाई में जमा होते रहते हैं, उस जमाव को प्लाक  कहते हैं। प्लाक  के कारण कोरोनरी आरटेरी का अंदर का व्यास कम हो जाता है, इस कारण दिल के विभिन्न भागों को खून कम मिलता है और दिल सही तरह से काम नहीं कर पाता है।
जब प्लाक  की वज़ह से कोरोनरी आरटेरी  में रक्त प्रवाह रुक जाता है तो दिल में खून की सप्लाई बंद हो जाती है। इसे दिल का दौरा या हार्ट अटैक  कहते हैं।

1441008713heart-attack जानें हार्ट अटैक के कारण के बारे में 1441008713heart attack

हार्ट अटैक के लक्षण

  • असामान्य रूप से थकान होना
  • हाथों, कंधों, कमर या जबड़े में दर्द होना
  • छाती में दर्द होना एवं सीने में ऐठन होना
  • पसीना आना एवं सांस फूलना
  • मितली आना, उल्टी होना
  • त्वचा पर चिपचिपाहट, उनींदापन, सीने में जलन महसूस होना
  • महिलाओ में हार्ट अटैक अाने पर कुछ अन्य लक्षण भी देखे सकते है

हार्ट अटैक होने के कारणों में आसीन जीवन शैली  सबसे बड़ी वजह है। शारीरिक परिश्रम की कमी के कारण शरीर में खून का संचार शरीर में सही ढ़ंग से नहीं हो पाता। इसके अलावा हार्ट अटैक  के कुछ कारण निम्न हैं:

हार्ट अटैक के कारण

  • मोटापा
  • व्यायाम या शारीरिक श्रम में कमी
  • असंतुलित आहार
  • कोलेस्ट्रोल का बढ़ना
  • डायबिटीज
  • तनाव
  • उच्च रक्तचाप

Leave a Reply