डिमेंशिया  व्यक्ति के मस्तिष्क को प्रभावित करने वाली बीमारी होती है। अल्जाइमर्स की बीमारी  और वस्क्युलर डिमेंशिया  इसके सबसे आम प्रकार  हैं।

डिमेंशिया क्या है

दिमाग की कोशिकाओं को न्यूरॉन्स कहते हैं जो दिमाग को संचालित करती हैं। डिमेंशिया एक ऐसा मानसिक रोग है जिसमें धीरे धीरे दिमाग के न्यूरॉन्स नष्ट हो जाते हैं।
डिमेंशिया के शिकार लोगों के दिमाग में प्रोटीन का जमाव होने लगता है। यह दिमाग के स्मरणशक्ति में फैल जाता है जिससे दिमाग के कुछ हिस्सों के न्यूरॉन मरने लगते हैं। इससे याददाश्त के लिए जरूरी महत्त्वपूर्ण न्यूरो ट्रांसमीटर  मसलन एसेटिलकोलाइन  का स्तर कम हो जाता है।

dementia_625x350_41442838891

डिमेंशिया के कारण होने वाली समस्या

इन बीमारियों  में रोगी की याददाश्त और सोचने की शक्ति धीरे धीरे कम होती जाती है। किसी के लिए भी डिमेंशिया बेहद परेशानी वाली बीमारी है। धीरे-धीरे यह व्यक्ति के रोजमर्रा के क्रियाकलापों को भी कठिन बना देती है। डिमेंशिया के रोगी धीरे धीरे पूरी तरह से दूसरों पर निर्भर होते जाते हैं|

डिमेंशिया से बचाव

कुछ क्रियाकलापों और जीवनशैली में तब्दीली लाकर न सिर्फ इस बीमारी के होने वाले खतरे को कम किया जा सकता है, बल्कि हो जाने के बाद इसके बढ़ने की गति को धीमा भी किया जा सकता हैं।
डिमेंशिया का कोई इलाज उपलब्ध नहीं है। डिमेंशिया की समस्याएं अचानक, रातों-रात नहीं होतीं. ये धीरे धीरे बढ़ती हैं. शुरू में ये छोटी, मामूली बातों में दिखाई देती हैं जिस कारण परिवार वाले इनको नज़रअंदाज़ कर देते हैं। यदि परिवार वाले सतर्क रहें तो पहचान पायेंगे कि क्या भूलना सामान्य किस्म का है या गंभीर समस्या का सूचक हो सकता है। वे फिर डॉक्टर से सलाह से रोगी का उचित इलाज करवायें। सिर में कई बार चोट लग जाने से इस बीमारी के होने की आशंका बढ़ जाती है।

डिमेंशिया के लक्षण

  • यह भूल जाना कि तारीख क्या है, कौनसा महीना है, साल कौनसा है, व्यक्ति किस घर में हैं, किस शहर में हैं, किस देश में
  • कपडे उलटे पहनना, साफ़-सुथरा न रह पाना
  • चीज़ों को गलत, अनुचित जगह पर रख छोडना (जैसे कि घडी को, या ऑफिस फाइल को फ्रिज में रख देना)
  • बड़ी रकम को फालतू की स्कीम में डाल देना, पैसे से सम्बंधित अजीब निर्णय लेना, लापरवाही या गैरजिम्मेदारी दिखाना
  • किसी बात को या प्रश्न को दोहराना, जिद्द करना, तर्क न समझ पाना
  • बोलते या लिखते हुए गलत शब्द का प्रयोग करना, या शब्दों के अर्थ न समझ पाना
  • छोटी छोटी समस्याओं को भी न सुलझा पाना
  • किसी वस्तु का चित्र देखकर यह न समझ पाना कि यह क्या है
  • नंबर जोड़ने और घटाने में दिक्कत, गिनती करने में दिक्कत
  • कुछ काम शुरू करना, फिर भूल जाना कि क्या करना चाहते थे, और बहुत कोशिश के बाद भी याद न कर पानाछोटी-छोटी बात पर, या बिना कारण ही बौखला जाना, चिल्लाना, रोना, इत्यादि
  • अपने आप में गुमसुम रहना, मेल-जोल बंद कर देना, चुप्पी साधना
  • डिमेंशिया से प्रभावित व्यक्ति में, रोग के बढ़ने के साथ ज्यादा और अधिक गंभीर लक्षण नज़र आते हैं। (याद रखें कि हर व्यक्ति में अलग अलग लक्षण नज़र आते हैं)

dimentia

डिमेंशिया के प्रमुख कारण

  • उच्च रक्तचाप से पीड़ित रोगियों को डिमेंशिया के प्रति सचेत रहना चाहिए।
  • आनुवांशिक: अगर परिवार में कोई भी इस बीमारी से पीड़ित हो, तो खतरे की संभावना ब़ढ जाती है
  • बढ़ती उम्र में इस बीमारी के खतरे बढ़ जाते हैं।
  • ज़्यादा जंक फूड खाने से और आधुनिक जीवनशैली से शरीर से जरूरी पोषक तत्व नहीं मिल पाते जिस कारण डिमेंशिया  होने की संभावना बढ़ जाती है।
  • मधुमेह और मोटापे को भी इसका मुख्य कारण माना जाता है।
Loading...

Leave a Reply