सामान्य उपचार

टिप्स

  • खाना समय से खाएं और खाकर कुछ देर टहलें, तुरंत सोएं नहीं
  • पानी ज्यादा से ज्यादा से पीएं
  • भोजन बनाने में हींग का प्रयोग करें
  • ज्यादा तला-भुना या मसालेदार खाना न खाएं
  • चाय-कॉफी कम से कम पीएं
  • कोल्डड्रिंक या अन्य आर्टिफिशियल पेय न लें

acidity (1)

एसिडिटी से बचाव के लिए घरेलू नुस्ख़े-

सौंफ

सौंफ खाने को पचाने में सहायता करती है और गैस को दूर रखती है। हर रोज खाना खाने के बाद सौंफ को मुंह में रखकर चबाएं। सौंफ के साथ मिश्री भी मिलाई जा सकती है। ऐसा करने से एसिडिटी से राहत मिलती है।

गुड़

गुड़ में पाचन के लिए बेहद अच्छी खाद्य सामग्री है साथ ही गुड़ खाने से पेट की अम्लता भी कम होती है जिससे एसिडिटी से राहत मिलती है। उपचार के लिए हर रोज खाने के बाद एक टुकड़ा गुड़ का खाएं। हालांकि यह उपाय शुगर रोगियों के लिए ठीक नहीं है।

natural-jaggery

दालचीनी

दालचीनी एक प्राकृतिक एंटासिड  है जो पाचन शक्ति के लिए बेहद अच्छी है और गैस को दूर रखती है। उपचार के लिए एक कप पानी में आधा चम्मच दालीचीनी पाउडर डालकर उबालें। इस पानी को एक दिन में दो से तीन बार पिएं। इसके अलावा सूप या सलाद में भी दालचीनी पाउडर डालकर खाया जा सकता है।

तुलसी के पत्ते

तुलसी के पत्ते आपको तुरंत एसिडिटी, गैस और उल्टी से राहत दे सकते हैं। उपचार के लिए कुछ तुलसी के पत्ते चबा कर खाएं। इसके अलावा तुलसी के कुछ पत्ते पानी में उबालकर, उस पानी को छान लें। गुनगुना रहने पर शहद मिलाकर पिएं। यह भी एसिडिटी के लिए अच्छा उपाय है।

ठंडा दूध

दूध पेट में एसिड के निर्माण को रोकता है साथ ही गैस्ट्रिक एसिड को स्थिर करके एसिडिटी की समस्या होने से बचाता है। हालांकि एसिडिटी की समस्या होने पर सिर्फ ठंडा दूध ही पीना चाहिए। गरम दूध उतना लाभकारी नहीं होता।

milka2master

छाछ

छाछ पीने से भी एसिडिटी में बहुत राहत मिलती है। छाछ में पेट की अम्लता को संतुलित करने के लिए लैक्टिक एसिड होता है। उपचार के लिए मेथी के दानों को पानी के साथ मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को एक गिलास छाछ में मिलाकर पिएं। इससे पेट का दर्द भी ठीक होगा और गैस से भी राहत मिलेगी। साथ ही, एसिडिटी भी खत्म होगी। स्वाद बढ़ाने और बेहतर परिणाम के लिए इस छाछ में काला नमक और काली मिर्च भी मिलाई जा सकती है।

जीरा

जीरा भी एक बेहतरीन एसिड न्यूट्रालाइजर  है जो एसिडिटी को कम करता है। इसके साथ ही पाचन शक्ति को बढ़ाकर पेट दर्द से भी राहत देता है। उपचार के लिए जीरा को भूनकर उसका पाउडर बनाएं। इस पाउडर को खाना खाने के बाद एक गिलास पानी में मिलाकर पिएं। जीरा पाउडर को छाछ में मिलाकर भी पिया जा सकता है।

caraway-Cumin-seeds1

सेब का सिरका

सेब का सिरका भी एसिडिटी को ठीक करने का आसान तरीका है। उपचार के लिए एक कप पानी में दो चम्मच कच्चा सेब का सिरका मिलाकर दिन में दो बार पिएं। खाना खाने से पहले भी इसे पिया जा सकता है।

अदरक

अदरक में पेट की अम्लता से लड़ने के गुण होते हैं जो एसिडिटी से राहत देते हैं। उपचार के लिए खाने के बाद अदरक का एक छोटा टुकड़ा मुंह में रखकर चबाएं। या फिर एक कप पानी में अदरक को कुचलकर डालें और उबालें। इस पानी को छनकर पिएं।

लौंग

लौंग खाने से पेट में हाइड्रोक्लोरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है जिससे पेट की अम्लता कम होती है और एसिडिटी से राहत मिलती है। राहत के लिए खाने के बाद दो से तीन लौंग को मुंह में रखकर हल्का हल्का चबाकर चूसें।

cloves

Loading...

Leave a Reply