ब्लूबेरी को नीलबदरी व अन्य नामों से भी जाना जाता है, जो एक स्वादिष्ट फल होने के साथ- साथ कई औषधीय गुणों से भी भरपूर है। छोटे व गोल आकार के ब्लूबेरी नीले रंग के होते हैं। इनका स्वाद खट्टा- मीठा होता है।

 

bluberi ब्लूबेरी में छिपे है बहुत सारे रहस्य bluberi

 

ब्लूबेरी में कैलोरी, सोडियम, पोटैशियम, कार्बोहाइड्रेट, मैग्नेशियम, कैल्शियम, आयरन, विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन डी, विटामिन बी6, विटामिन बी12 व अन्य पोषक तत्व होते हैं। इसलिए यह कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से भी बचाता है। इसका नियमित रूप से सेवन करने से कई खतरनाक बीमारियों से सुरक्षित रहते हैं।

ब्लूबेरी में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाया जाता है, जो त्वचा की सभी समस्याओं को दूर करता है। ब्लूबेरी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट, कीटाणुओं को नष्ट कर कोशिकाओं को नुकसान होने से बचाता है। ब्लूबेरी हानिकारक एचडीएल कोलेस्ट्रॉल को भी संतुलित रखता है, जिससे झाइयों और झुर्रियों की समस्या नहीं होती।

ब्लूबेरी के अनोखे फायदे

मोटापा

यदि आपका वजन अधिक है तो नियमित ब्‍लूबेरी का सेवन करके आप इसे नियंत्रित कर सकते हैं। ब्‍लूबेरी पेट के पास जमा अतिरिक्‍त चर्बी से निजात दिलाता है। ब्‍लूबेरी में कैलोरी की मात्रा कम होती है और इसमें पाया जाने वाला फाइबर मोटापे को निंयत्रित करता है। कई शोधों में भी यह बात साबित हो चुकी है कि ब्‍लूबेरी शरीर से शुगर के स्‍तर को कम करता है जिससे मोटापे की समस्‍या नहीं होती है।

weight-loss-using-barley-water ब्लूबेरी में छिपे है बहुत सारे रहस्य weight loss using barley water

 

मधुमेह से बचाये

मधुमेह पर नियंत्रण के लिए ब्‍लूबेरी का सेवन कीजिए। डायबिटिक्‍स भी इसका सेवन करके मधुमेह पर नियंत्रण पा सकते हैं। ब्‍लूबेरी के अलावा इसकी पत्तियां भी बहुत गुणकारी हैं। जर्नल ऑफ न्यूट्रीशन के अनुसार, ब्‍लूबेरी की पत्तियों में एंथोसियानीडीनस नामक तत्‍व भारी मात्रा में मौजूद होते हैं जो मेटाबॉलिज्‍म की प्रक्रिया नियंत्रित करते हैं और ग्‍लूकोज को शरीर के विभिन्‍न हिस्‍से में सही तरीके से पहुंचाने में मदद करता है। इस खास गुण के कारण ही ब्‍लड में शुगर का स्‍तर नहीं बढ़ता और मधुमेह जैसी बीमारी नहीं होती है।

Diabetes ब्लूबेरी में छिपे है बहुत सारे रहस्य Diabetes facts and myths

तनाव

मानसिक तनाव जैसी परेशानी में ब्लूबेरी बहुत फायदेमंद साबित हो सकती है। ब्लूबेरी में बायो-एक्टिव पदार्थ “एंथोकायनिंस” का गुण होता है, जो मानसिक तनाव को दूर करने में आपकी मदद कर सकता है। हफ्ते में दो से तीन बार मुट्ठी भर ब्लूबेरी खाने से तनाव से छुटकारा मिलता है।

headache ब्लूबेरी में छिपे है बहुत सारे रहस्य headache 1

दिल की बीमारी

अमेरिकी कृषि विभाग की शोध के अनुसार ब्लूबेरी खाने से हार्ट अटैक की संभावनाएं कम होती है। ब्लूबेरी धमनियों में खून का थक्का बनने नहीं देता, जो दिल के दौरे की मुख्य वजह होता है। ब्लूबेरी में फ्लेवोनॉयड के गुण भी पाये जाते हैं, जो दिल से जुड़ी समस्याओं को दूर करता है।

Women-Heart-Attack ब्लूबेरी में छिपे है बहुत सारे रहस्य Women Heart Attack

कैंसर से बचाव

कैंसर एक जानलेवा बीमारी है जिसका उपचार आसानी से नहीं हो पाता, यह किसी को भी हो सकता है। लेकिन क्‍या आपको पता है कि ब्‍लूबेरी का सेवन करने से कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से बचाव किया जा सकता है। दरअसल ब्‍लूबेरी में एलेगिक एसिड और टेरोस्टिलबीन नामक तत्‍व पाया जाता है जो कैंसर से बचाता है, विशेषकर पेट के कैंसर से।

आंखों की बीमारी

आंखों की बीमारियों से बचना है तो ब्‍लूबेरी का सेवन कीजिए। बढ़ती उम्र के कारण यदि आपको आंखों की समस्‍यायें हो रही हैं तो इससे बचाव किया जा सकता है। इतना ही नहीं ब्‍लूबेरी आंखों की रोशनी बढ़ाता है। इसमें पाया जाने वाला एंथोसाइनोसाइड्स नामक कंपोनेंट पाया जाता है जो आंखों को बीमारियों से बचाता है। इसके अलावा यह मोतियाबिंद और मायोपिया जैसी बीमारियों से भी बचाव करता है।

संक्रमण से बचाव

ब्‍लूबेरी एंटीऑक्‍सीडेंट गुणों से भरपूर है, जिसके कारण यह संक्रमण से भी बचाव करता है। घरेलू उपचार के लिए बहुत पहले से ही ब्‍लूबेरी का प्रयोग होता आया है। यूरीनरी ट्रैक्‍ट इंफेक्‍शन होने पर ब्‍लूबेरी का इस्‍मेमाल करना चाहिए।

याददाश्त

बढ़ती उम्र में याददाश्त का कमजोर होना आम बात है, लेकिन यदि आप ब्लूबेरी का सेवन करते हैं, तो आपकी याददाश्त कभी कमजोर नहीं हो सकती। इसलिए याददाश्त बढ़ाने के लिए ब्लूबेरी का सेवन बेहद जरूरी है।

पाचन

ब्लूबेरी फाइबर का बहुत अच्छा स्रोत माना जाता है, जिससे कब्ज और पाचन समस्याएं दूर रहती हैं। इसमें पाये जाने वाले मिनरल और अन्य पोषक तत्व पाचन शक्ति को मजबूत बनाते हैं।

 

ब्लूबेरी के दुष्प्रभाव 

 

हैपेटाइटिस ए

न्यू ज़ीलैंड में किए गए शोध के अनुसार, ब्लूबेरी के अत्यधिक सेवन या कच्चे ब्लूबेरी का सेवन करने से हैपेटाइटिस ए जैसी गंभीर समस्या हो सकती हैं। इस रोग की पुष्टि डीएनए (DNA) से प्राप्त वायरस से हुई है।

शुगर की कम मात्रा

ब्लूबेरी, खून में शक्कर (शर्करा) की मात्रा को कम करने में बहुत मदद करता है। लेकिन कई बार इसके अधिक सेवन से या लगातार सेवन से खून में शुगर यानी शक्कर की मात्रा जरूरत से ज्यादा कम हो जाती है, जो रोगी के लिए खतरनाक साबित हो सकती है।

 

 

Leave a Reply