टाइफाइड या आंत जवर एक गंभीर बीमारी है। इस बीमारी में रोगी को तेज बुखार के साथ उलटी और दस्त आदि की समस्या होती है। टाइफाइड एक जानलेवा बीमारी मानी जाती है। आइएं जानें इसके विषय में अधिक जानकारी।

टाइफाइड

टाइफाइड, सल्मोनेला नामक बैक्टीरिया से होने वाला एक संक्रामक रोग है। सल्मोनेला बैक्टीरिया प्रदूषित पेय व खाद्य पदार्थों के सेवन से आंतों में जाकर वहां से रक्त में पहुंच जाता है। बच्चों को वयस्कों की तुलना में टाइफाइड होने की अधिक संभावना होती है।

Typhoid-Fever-AllDayChemist-Health-Blog जानिए टाइफाइड के लक्षण के बारे में Typhoid Fever AllDayChemist Health Blog

टाइफाइड कैसे फैलता है?

टाइफाइड सबसे अधिक मुंह के जरिये खाने-पीने की ऐसी प्रदूषित वस्तुओं से फैलता है, जिसमें साल्मोनेला टाइफी नामक जीवाणु मौजूद हो। साल्मोनेला टाइफी बैक्टीरिया केवल मानव में छोटी आंत में पाए जाते हैं।
इस बीमारी से ग्रस्त व्यक्ति जब खुले में मल त्याग करता है, तो ये बैक्टीरिया वहाँ से पानी में मिल सकते हैं, मक्खियों द्वारा इन्हें खाद्य पदार्थों पर छोड़ा जा सकता है और ये स्वस्थ व्यक्ति को रोग का शिकार बना देते हैं।
कई व्यक्ति ऐसे होते हैं, जिनके पेट में ये बैक्टीरिया होते हैं और उन्हें हानि नहीं पहुँचाते, बल्कि बैक्टीरिया फैलाकर दूसरों को रोग का शिकार बनाते हैं। ये लोग अनजाने में ही बैक्टीरिया के वाहक बन जाते हैं।

टाइफाइड के लक्षण

  • कब्ज या दस्त होना
  • रोग की गंभीर स्थिति में बेहोशी भी आ सकती है
  • सूखी खांसी आना और पेट में दर्द
  • बुखार शुरू में हल्का, पर धीरे-धीरे तेज होता जाता है
  • कभी-कभी शौच में खून का आना
  • सिर-दर्द और बदन-दर्द
  • भूख कम लगना और उल्टियां आना

typhoid-fever जानिए टाइफाइड के लक्षण के बारे में typhoid fever

क्यों फैलता है टाइफाइड

माना जाता है कि टाइफाइड अधिकातर गंदगी के कारण फैलता है। शौच के बाद संक्रमित व्यक्ति द्वारा हाथ ठीक से न धोना और भोजन बनाना या भोजन को छूना भी रोग फैला सकता है। कुछ अन्य कारण निम्न हैं:

  • शौच के बाद साफ-सफाई का ध्यान ना रखना।
  • पीने के पानी का जीवाणु से प्रदूषित होना।
  • गलत जीवन-शैली के कारण शरीर के रोग प्रतिरोधक तंत्र का कमजोर होना।
  • उन क्षेत्रों में काम करना या यात्रा करना जहां यह बीमारी है।

Leave a Reply