टोनर का इस्तेमाल स्किन को साफ और मॉश्चराइज़ करने के लिए किया जाता है। और ये भी जान लें कि टोनर का इस्तेमाल स्किन पर मॉश्चराइज़र लगाने के पहले करें। तो फिर सुपरमार्केट जाकर आप केमिकल बेस्ड टोनर के बजाय आप घर पर स्किन टोनर क्यों नहीं बनातें, जिसका साइड इफेक्ट भी न के बराबर होगा।

skinm

मिन्ट टोनर

एक मुट्ठी पुदीने के पत्ते को उबालकर उसका रस निकालकर अलग रख दें। इस एक्सट्रैक्ट को फ्रिज में रख सकते हैं। जब टोनर लगाने की ज़रूरत होगी तब एक कप डिस्टिल्ड पानी में 2-3 बूंद मिन्ट टोनर डालकर फेस पर लगायें। ये टोनर ड्राई स्किन के लिए सही विकल्प है।

ग्रीन टी और एप्पल सिडार विनेगार टोनर

इस टोनर को बनाने के लिए पहले ग्रीन टी बनाकर अलग रख दें और उसके बाद स्प्रे बोतल में ¾ भाग में ग्रीन टी और ¼ भाग एप्पल सिडार विनेगार भरें। उसमें 4-5 बूंद पिपरमिंट एसेंशियल डालकर अच्छी तरह से हिलाकर मिला लें। इसको सीधे चेहरे पर स्प्रे कर सकते हैं। ग्रीन टी का एन्टी इन्फ्लैमटोरी गुण स्किन को रिफ्रेश करने के साथ-साथ एप्पल साइडर विनेगार स्किन के ऑयल को निकालने में मदद करता है।

रोज़वाटर टोनर

गुलाब जल का एन्टीसेप्टिक, एन्टी इन्फ्लैमटोरी और एन्टीबैक्टिरीयल गुण मुहांसा, टैनिंग और पिग्मेन्टेशन जैसे त्वचा की समस्याओं पर प्रभावकारी रूप से काम करता है। गुलाब जल के छुअन से ही त्वचा में जान आ जाती है। इसलिए रोज रात सोने से पहले गुलाबजल से स्किन को साफ करना न भूलें।

Rose-Water

ग्रीन एप्पल और विच हैजल टोनर

एक ग्रीन एप्पल को काटकर उसका बीज निकाल लें। एप्पल को काटकर उबाल लेने के बाद अलग रख दें। अब इस मिश्रण को छानकर एक बाउल में रखें और उसमें ¼ कप हैजल डालें। अब इस टोनर को रूई के गोले में लगाकर में स्किन को साफ करें। ग्रीन एप्पल स्किन को ग्लो देता है तो हैजल ऑयली स्किन से ऑयल निकालने में मदद करता है।

नीम टोनर

नीम के कुछ पत्तों को पानी में उबालकर ठंडा होने के लिए रख दें। इसको छानने के बाद रूई के गोले को इसमें भिगाने के बाद स्किन को साफ करें। टोनर के सूखने के बाद ही मॉश्चराइज़र का इस्तेमाल करें। नीम का एन्टीबैक्टिरीयल और एन्टी इन्फ्लैमटोरी गुण मुहांसों को आने से रोकने के साथ दाग-धब्बों को कम करने में मदद करता है।

benefits-of-neem-leaves-633

Loading...

1 COMMENT

Leave a Reply