मोटापा आज के समय की आम बीमारियों में एक है। इसकी वजह से तमाम तरह की बीमारियां जैसे शुगर, ब्लड प्रेशर, अनिद्रा, जोड़ों और घुटनों में दर्द होने की संभावना बढ़ जाती है। मोटापा बढ़ने के कई कारण हैं। अनियमित दिनचर्या, खान-पान में असंतुलन आदि मोटापा के प्रमुख कारण हो सकते हैं। शरीर का बढ़ा वजन कम करने के लिए आपको अपने खान-पान और नियमित व्यायाम पर तो ध्यान देना ही चाहिए, इसके अलावा भी कई तरह के उपाय हैं जिसे अपनाकर आप इस समस्या से निजात पा सकते हैं।

और अधिक जानकारी के लिए मोबाइल एप्प भी डाउनलोड करें और निशुल्क जानकारी पाएं वो भी ऑफलाइन डाउनलोड के लिए यंहा क्लिक करें

मोटापे का इलाज

(१) खाना खूब चबा-चबाकर खायें | 
(२) चूना खाना है (एक गेहूं के दाने के बराबर दिन में एक बार ) दस मिनट धूप में टहलें | 
(३) त्रिफला चूर्ण एक चम्मच एक गिलास गर्म पानी में उबालकर दो चम्मच गुड़ या शहद मिलाकर काढ़ा बनाकर पियें | 
(४) त्रिफला और गिलोय चूर्ण तीन-तीन ग्राम में मिलाकर चाटना है | 
(५) पानी हमेशा बैठकर घूँट-घूँट पियें | 
(६) भोजन तीन बार से अधिक न करें, भोजन भूख से थोड़ा कम करें | 
(७) दिन में कभी न सोयें |

रोग मुक्ति के लिये आवश्यक नियम

पानी के सामान्य नियम : 
१) सुबह बिना मंजन/कुल्ला किये दो गिलास गुनगुना पानी पिएं ।
२) पानी हमेशा बैठकर घूँट-घूँट कर के पियें ।
३) भोजन करते समय एक घूँट से अधिक पानी कदापि ना पियें, भोजन समाप्त होने के डेढ़ घण्टे बाद पानी अवश्य पियें ।
४) पानी हमेशा गुनगुना या सादा ही पियें (ठंडा पानी का प्रयोग कभी भी ना करें।
भोजन के सामान्य नियम : 
१) सूर्योदय के दो घंटे के अंदर सुबह का भोजन और सूर्यास्त के एक घंटे पहले का भोजन अवश्य कर लें ।
२) यदि दोपहर को भूख लगे तो १२ से २ बीच में अल्पाहार कर लें, उदाहरण – मूंग की खिचड़ी, सलाद, फल और छांछ ।
३) सुबह दही व फल दोपहर को छांछ और सूर्यास्त के पश्चात दूध हितकर है ।
४) भोजन अच्छी तरह चबाकर खाएं और दिन में ३ बार से अधिक ना खाएं ।
अन्य आवश्यक नियम : 
) मिट्टी के बर्तन/हांडी मे बनाया भोजन स्वस्थ्य के लिये सर्वश्रेष्ठ है ।
२) किसी भी प्रकार का रिफाइंड तेल और सोयाबीन, कपास, सूर्यमुखी, पाम, राईस ब्रॉन और वनस्पति घी का प्रयोग विषतुल्य है । उसके स्थान पर मूंगफली, तिल, सरसो व नारियल के घानी वाले तेल का ही प्रयोग करें ।
३) चीनी/शक्कर का प्रयोग ना करें, उसके स्थान पर गुड़ या धागे वाली मिश्री (खड़ी शक्कर) का प्रयोग करें ।
४) आयोडीन युक्त नमक से नपुंसकता होती है इसलिए उसके स्थान पर सेंधा नमक या ढेले वाले नमक प्रयोग करें ।
५) मैदे का प्रयोग शरीर के लिये हानिकारक है इसलिए इसका प्रयोग ना करें ।
मित्रो बहुत ही हर्ष के साथ आप सभी को सूचित किया जाता है की इस वेबसाइट की एप्प लांच कर दी गयी है आप सभी से निवेदन है की इसे डाउनलोड कर हमे आर्शीवाद दें ताकि हम आप लोगो की सेवा इसी तरह करते रहें इसे डाउनलोड करें और अपनों मित्रों को भी बताएं डाउनलोड करने के लिए यंहा क्लिक करें और अधिक जानकारी पाएं

Leave a Reply