मधुमेह के रोगी को ऐसे फल का चुनाव करना चाहिए जो ऊर्जा और पौष्टिकता से भरपूर होने के साथ शरीर में ब्लड-शुगर के स्तर को नियंत्रित भी रखे-

diabetes मधुमेह के रोगियों को कुछ चुने हुए फल ही खाने चाहिए diabetes

नाशपाती

इसमें ग्लिसेमिक इन्डेक्स कम होता है लेकिन साथ ही फाइबर, मिनरल और विटामिन से भरपूर होते हैं जो ब्लड-शगुर के स्तर को नियंत्रित करने के साथ-साथ कोलेस्ट्रोल को कम करता है और हजम शक्ति को उन्नत करता है।

संतरा या नारंगी

इसमें विटामिन ए, बी-कॉम्प्लेक्स और विटामिन सी प्रचुर मात्रा में होते हैं। विटामिन सी शरीर के प्रतिरक्षी तंत्र  को उन्नत करने में बहुत मदद करता है। शरीर को किसी भी प्रकार के संक्रमण से जल्दी राहत दिलाने में सहायता करने के साथ-साथ ब्लड-शुगर के स्तर को नियंत्रित रखता है।

mandarinorange मधुमेह के रोगियों को कुछ चुने हुए फल ही खाने चाहिए mandarinorange

सेब

यह मधुमेह के रोगी के लिए आदर्श स्नैक्स होता है। यह पेक्टिन नामक घुलनशील फाइबर का मूल स्रोत होता है जो कोलेस्ट्रोल के मात्रा को कम करने के साथ-साथ ब्लड-शुगर को भी नियंत्रित करने में पूरी तरह से मदद करता है। इसका एन्टी-इन्फ्लैमटॉरी  गुण मधुमेह रोगी को किसी भी प्रकार के संक्रमण से राहत दिलाने में मदद करता है। सेब का क्वेरोसेटीन एन्टीऑक्सिडेंट गुण टाइप-2 मधुमेह के खतरे को कम करने में भी मदद करता है।

पीच

यह गर्मियों में मधुमेह रोगी के लिए पौष्टिकता से भरपूर फल होता है। इसमें फाइबर, विटामिन, एन्टी-ऑक्सिडेंट्स, विटामिन सी प्रचुर मात्रा में होते हैं । इस फल को ताजा खाना ही अच्छा होता है।

स्ट्रॉबेरी

यह एक ऐसा फल है जिसको एक कटोरी तक खा लेने पर भी ग्लिसेमिक इन्डेक्स कम ही रहता है और यह देर तक पेट को संतृप्त रखने में मदद करता है। यह ऊर्जायुक्त तो होता ही है साथ ही ब्लड-शुगर को नियंत्रित रखता है। यह शरीर को फ्री-रैडिकल्स के क्षति से बचाता है जिसके कारण कैंसर को रोकने में भी मदद करता है।

strawberry मधुमेह के रोगियों को कुछ चुने हुए फल ही खाने चाहिए strawberry

अमरूद

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि अमरूद में विटामिन सी की मात्रा संतरे से ज़्यादा होता है। यह फल मधुमेह के रोगी के लिए बहुत अच्छा होता है। इसमें ग्लिसेमिक इन्डेक्स कम होने के साथ-साथ ऊर्जा भरपूर मात्रा में होता है। इसलिए यह भी ब्लड-शुगर के स्तर को नियंत्रित रखने में मदद करता है।

Leave a Reply