रोजमेरी, एक प्राकृतिक औषधि है, जिसे गुलमेंहदी, केशवास आदि नामों से जाना जाता है। इसका इस्तेमाल भारतीय रसोई में भी देखने को मिलता है। आमतौर पर रोजमेरी का इस्तेमाल खाने में फ्लेवर और खुशबू लाने के लिए किया जाता है।

रोजमेरी में पौटेशियम, कार्बोहाइड्रेट, आयरन, कैल्सियम, मैग्नेशियम, विटामिन A, B6, B12, C, D आदि पर्याप्त मात्रा में होते हैं।

rojmeri

रोजमेरी के फायदे

कैंसर से बचाव

रोजमेरी में मौजूद कारोनोसोल में कैंसर रोधी गुण पाए जाते हैं। यह ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर, कोलोन कैंसर, ल्यूकेमिया और स्किन कैंसर से बचाने में मदद करता है। खाने में रोजमेरी के प्रयोग से खाने का स्वाद तो बढ़ता ही है साथ ही कैंसर जैसी जानलेवा बीमारियों से भी आप बचे रहते हैं।

दर्द में राहत

रोजमेरी के तेल को दर्द वाली जगह पर लगाने से दर्द में राहत मिलती है। किसी भी प्रकार के मसल्स पेन, जोड़ों में दर्द और अर्थाराइटिस की समस्या होने पर रोजमेरी के तेल का नियमित प्रयोग काफी फायदेमंद होता है।

Arthritis

याददाश्त बढ़ाए

रोजमेरी में याद्दाशत बढ़ाने वाले तत्व भी पाए जाते हैं। रोजमेरी में कारनोसिक नामक तत्व होता है, जो मस्तिष्‍क को स्‍वस्‍थ रख उसकी कार्यक्षमता बढ़ाता है। इससे स्‍मरण शक्ति तो तेज रहती ही है  साथ ही अल्‍जाइमर जैसे मानसिक रोग से भी बचाव होता है।

मूड अच्छा रखे

रोजमेरी की सुगंध आपकी मनोदशा सुधारने का काम करती है। यह तनाव को दूर कर आपके दिमाग को शांति पहुंचाने का काम करता है। रोजमेरी की सुगंध वाला रूम फ्रेशनर आपके मूड में काफी सुधार लाता है।

माइग्रेन करे दूर

रोजमेरी को माइग्रेन का एक प्राकृतिक उपचार माना जाता है। रोजमेरी को एक बर्तन में उबाल लें। सिर को तौलिए से ढंक लें और दस मिनट तक ऐसे ही भाप लें। इससे रोजमेरी की महक आपके मस्तिष्क तक पहुंचेगी और माइग्रेन के दर्द में राहत मिलेगी।

migraine

एंटी एजिंग तत्व

रोजमेरी में एंटी एजिंग तत्व होते हैं इसलिए एंटी एजिंग क्रीम में रोजमेरी का प्रयोग होता है। यह झुर्रियों की समस्या से निजात दिलाकर कोशिकाओं को पुनर्जीवित करने का काम करती है। इसके अलावा यह स्किन टोन में सुधार और रक्त का संचार बढ़ाने का काम भी करती है।

एंटीबैक्टेरियल तत्व

रोजमेरी में एंटी बैक्‍टीरियल होता है जो पेट में होने वाले अल्सर से बचाता है। इसके अलावा इसे घर में लागने से मच्‍छर और कीट दोनों का ही सफाया होता है।

प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए

प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए रोजमेरी का नियमित सेवन करना अच्छा रहता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट,एंटी इंफेलेमेटरी गुण आपको स्वस्थ रखने में मददगार साबित होते हैं।

पाचन शक्ति बढ़ाए

अक्सर रोजमेरी का प्रयोग पाचन समस्या जैसे पेट में दर्द, गैस, अपच आदि से बचने के लिए किया जाता है। अक्सर मांसाहारी भोजन के सेवन से यह समस्या पैदा होती है लेकिन अगर खाना बनाते समय रोजमेरी का प्रयोग किया जाए तो इस समस्या से बचा जा सकता है।

बालों के लिए फायदेमंद

रोजमेरी बालों को बढाने में मदद करती हैं , उनकी जड़ों को मजबूत करती हैं और रुसी खत्म करती हैं | रोजमेरी में सल्फर और सिलिका पाए जाते हैं जो की बालों का टूटना रोकते हैं | 2 बूँद रोजमेरी को, 2 टेब्लस्पून तेल के मिश्रण ( जैतून , जोजोबा, अवोकेडो और नारियल के तेल ) में मिलाएं फिर इस तेल से मालिश करें | आप रोजमेरी को उबाल कर बालों में शैम्पू करने के बाद भी उससे बाल धो सकते हैं |

Beautiful Brunette Girl. Healthy Long Hair

रोजमेरी के दुष्प्रभाव

मानसिक विकार

रोजमेरी का अत्यधिक सेवन, मानसिक विकार का कारण हो सकता है। इसलिए इसका उपयोग करने से पहले सही मात्रा की सलाह अच्छे वैद्य या डॉक्टर से जरूर लें।

गुर्दे या पेट की समस्या

बिना सलाह रोजमेरी के अधिक सेवन हानिकारक हो सकता है, जिसके फलस्वरूप पेट और आंतों में जलन या फिर गुर्दे से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं।

एस्पिरीन एलर्जी

रोजमेरी में कई प्रकार के केमिकल पाये जाते हैं, जिनमें मुख्य रूप से सैलिसिलेट होता है। सैलिसिलेट शरीर के एस्पिरीन केमिकल को प्रभावित करता है, इसलिए रोजमेरी के अत्यधिक सेवन की वजह से एस्पिरीन एलर्जी की खतरा हो सकता है।

रक्तस्राव विकार

वैसे तो रोजमेरी बहुत ही फायदेमंद है, लेकिन अनियमितता बरतने पर यानी अधिक सेवन करने पर इसका नकारात्मक प्रभाव पढ़ सकता है, जैसे रक्तस्राव (खून बहना), आंतरिक घाव उत्पन्न होना आदि।

गर्भपात

रोजमेरी का गर्म स्वभाव मासिक धर्म को प्रोत्साहित तथा गर्भाशय को प्रभावित करता है। यदि गर्भवती महिला रोजमेरी का सेवन बिना सलाह के करती है तो समस्या हो सकती है, जिसके चलते गर्भपात भी हो सकता है।

Loading...

Leave a Reply