सूखी और बलगम वाली खांसी का घरेलू उपचार इन हिंदी  –
खांसी गले का एक रोग है जो फेफड़ों के रोग, गले में इन्फेक्शन, छाती में जमा कफ के कारण होती है। खांसी 2 प्रकार की होती है सुखी और कफ। सूखी खांसी होने पर गले में कुछ अटकने जैसा लगता है और कफ वाली खांसी गले और सीने में जमा बलगम के कारण होती है। कफ निकालने और खांसी रोकने के ट्रीटमेंट के लिए बाजार में कई प्रकार की अंग्रेजी दवा टेबलेट और सिरप के रूप में उपलब्ध है पर डॉक्टर की सलाह के बिना ये मेडिसिन नहीं लेनी चाहिए। इससे पहले हमने खांसी का बढ़ियां घरेलू उपचार और रामबाण आयुर्वेदिक नुस्खे जाने है। 

khansi ka gharelu ilaj or upchar सूखी और बलगम वाली खांसी का घरेलू उपचार khansi ka ilaj 1024x576

खांसी होने का कारण

  • फेफड़ों में कोई रोग या फेफड़ों में कैंसर
  • धूम्रपान अधिक करने से गले में परेशानी होना
  • ज्यादा समय धूल मिट्टी में रहना
  • सर्दी जुकाम और वायरल इन्फेक्शन होना
  • गले में जलन खराश का होना
  • टीबी या फिर अस्थमा का रोग होना

सूखी और बलगम वाली खांसी का घरेलू उपचार  sukhi or bulgam vali khansi ka gharelu upchar in hindi

  • खांसी दूर करने के सिरप में Codeine, Diphenhydramine और Mucolytic जैसे घटक होते है जो कफ वाली और सूखी खांसी का उपचार करने में उपयोगी है।
  • सूखी खांसी और बलगम खांसी दूर करने के लिए Dabur Honitus Cough Syrup भी अच्छा और फायदेमंद है। ये एक आयुर्वेदिक सिरप है जिसमें तुलसी, सौंठ और शहद होता है। बच्चों की खांसी में भी ये दवा अच्छी होती है।
  • छाती में जमा कफ निकालने, गले में खराश और छाती में दर्द जैसी प्रॉब्लम दूर करने के लिए Himalaya Koflet Syrup आयुर्वेदिक दवा का काम करता है।
  • बलगम वाली खांसी और सूखी खांसी दोनों के इलाज के लिए टेबलेट और सिरप अलग अलग होते है। खांसी के लक्षण के आधार पर ही आप को अपनी मेडिसिन लेनी चाहिए। अपनी khasi medicine name के लिए आप डॉक्टर से भी सलाह ले सकते है।
  • सर्दी खांसी की टेबलेट का नाम में Codeine tablets का प्रयोग किया जाता है। इसके इलावा Chlorpheniramine और Benzonatate tablet कुछ ऐसी घटक है जो खांसी का इलाज में प्रयोग कर सकते ह
  • बलगम वाली खांसी के लिए सिरप में Benadryl Cough Syrup काफी असरदार है। कफ जल्दी खत्म करने और खांसी रोकने में ये सिरप मदद करता है।
  • अस्थमा और एलर्जी की वजह से होने वाली खांसी में Charak Kofol एक बेस्ट सिरप है। छाती में जमा बलगम से होने वाली समस्या से छुटकारा पाने के लिए ये सिरप उपयोगी है।
  • खांसी की दवा पतंजलि कफ सिरप भी ले सकते है। Divya swasari pravahi patanjali cough syrup भी एक अचूक दवा है। ये दवा जुखाम, नजला और गले में इन्फेक्शन के ट्रीटमेंट में मदद करता है।

खांसी के घरेलू उपचार

सूखी और बलगम वाली खांसी का घरेलू उपाय sukhi or bulgam vali khasi ka gharelu upay in hindi

  • एक छोटा सा टुकड़ा अदरक का ले और मुंह में रख कर कुछ देर इसका रस चूसे। कुछ देर में ही इस उपाय से खांसी बंद हो जाएगी।
  • सूखी खांसी का रामबाण इलाज में अदरक, तुलसी और काली का काढ़ा बना कर पिए। देसी घी में बना बेसन का हलवा भी सूखी खांसी में आराम देता है।
  • कच्ची हल्दी गले के किसी भी तरह के रोग का तुरंत इलाज करने में अचूक आयुर्वेदिक दवा है। खांसी पुरानी हो या नई इसका आधा चम्मच रस सीधे गले पर डाले और कुछ देर मुंह बंद कर के बैठे। जैसे जैसे लार के साथ ये रस गले से नीचे उतरेगी आप की समस्या का समाधान होने लगेगा।
  • पुरानी और सूखी खांसी को आप मेडिसिन के बिना भी ठीक कर सकते है। खांसी का तुरंत इलाज करने में घरेलू उपचार भी बढ़िया होते है।
  • आधा चम्मच शहद में थोड़ी दालचीनी मिला कर लेने से सूखी खांसी से छुटकारा मिलता है।
  • छाती और गले में जमा बलगम बाहर निकालने के लिए गुनगुना पानी पीना चाहिए। इससे कफ निकलने लगेगी और गले को आराम मिलेगा।
  • सूखे आंवले और मुलेठी को पीस कर 1 चम्मच चूर्ण दिन में 2 बार खाली पेट लेने से छाती में जमा कफ से राहत मिलती है।

खांसी के घरेलू नुस्खे

खांसी में परहेज क्या करे

  • तेज मसाले वाला और तला हुआ खाने से दूर रहे।
  • ठंडा पानी ना पिए और कोल्ड ड्रिंक के सेवन से भी दूर रहे।
  • चावल, केला और दही से परहेज करना चाहिए।
  • गर्म चीज खाने के तुरंत बाद कुछ भी ठंडा ना खाएं पिए।
  • फ्रीज़ में रखी ठंडी चीजें खाने और पीने से भी परहेज करे।

Leave a Reply