रोज़मर्रा के बॉडी पेन आपके कामकाज और ज़िंदगी दोनों को बहुत प्रभावित करते हैं। लेकिन ऐसे में पेन किलर पर निर्भर रहना, आपकी सेहत के लिए बुरा साबित हो सकता है क्योंकि इनके भी साइड इफेक्ट्स होते हैं। ऐसे में ये आयुर्वेदिक और प्राकृतिक पेन रिलीफ हर्ब्स लिये जा सकते हैं।

back ache

हल्दी

करक्यूमिन  एक एंटी-इनफ्लेमेटरी तत्व के रूप में आयुर्वेद और चीनी चिकित्सा में काफी इस्तेमाल किया जाता है। ये तत्व हल्दी में होता है। कई अध्ययनों में ये बात सामने आई है कि हल्दी का ये तत्व अर्थराइटिस से बचाव के लिए काफी प्रभावी है। हर दिन इसकी 400-600मिग्रा डोज़ दर्द दूर कर सकती है।

1-turmeric-23-1450855468

फ्रैंकिनसेंस या गूगुल

बोसवेलिया पेड़ पर ये पाया जाता है। ये चिपचिपी चीज़ एंटी इनफ्लेमेटरी, एंटी-अर्थराइटिक और पेन रिलीविंग यानी दर्द से निजात दिलाने वाली होती है। शोधकर्ताओं ने ये पाया है कि एक दिन में 333मिग्रा एक्स्ट्रैक्ट लेने से अर्थराइटिस के कारण होने वाली घुटनों की समस्या में काफी राहत मिलती है।

रेस्वेराट्रॉल

ये तत्व अंगूर में काफी पाया जाता है, ये अर्थराइटिस में होने वाले जोड़ों के दर्द से राहत पहुंचाता है। ये बाज़ार में डायट कैप्सूल के रूप में मिलता है। इसकी डोज़ 50 मिग्रा से लेकर 500मिग्रा तक हो सकती है। डॉक्टर से परामर्श लेकर इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

????????????????????????????????????

वाइट विलो पेड़ की छाल

बहुत पुराने ज़माने से इनफ्लेमेशन, शरीर के दर्द और बुख़ार के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता रहा है। कई अध्ययनों में ये पाया गया कि ये एस्प्रिन की तरह काम करती है और इसके कोई गैस्ट्रिक साइड इफेक्ट्स नहीं होते। हर दिन 240मिग्रा खाने से ये लोअर बैक पेन कम करती है।

Loading...

Leave a Reply