सबसे पहले चिकित्सक रोगी की जांच करता है उसके बाद यह तय किया जाता है कि रोगी को कौन सी चिकित्सा देनी है। गले के कैंसर के प्रारंभिक दौर के लिए विकिरण चिकित्सा और शल्य चिकित्सा अपनाई जाती है। अधिक उन्नत चरणों के मामलों में, कीमोथेरपी चिकित्सा सर्जरी या विकिरण के साथ संयोजन में दी जा सकती है। जब पहले से ही गले के कैंसर व्यापक रूप से पूरे शरीर में फैल गया होता है, केवल कीमोथेरपी चिकित्सा दी जा सकती है। इन परिस्थितियों में, सर्जरी या विकिरण करने से अतिरिक्त लाभ प्रदान कर सकता है, और कैंसर ठीक हो सकता इसकी संभावना नहीं होती है।

neck cancer

पहला या दूसरा चरण

पहले या दूसरे चरण के गले के कैंसर को शल्य चिकित्सा, विकिरण चिकित्सा या दोनों की आवश्यकता होती है। इन कैंसर के लिये विकिरण चिकित्सा बेहद सफल हो सकती है, लेकिन गले के कैंसर का शायद ही कभी इतने जल्दी निदान होता हैं।

तीसरा या चौथा चरण

तीसरा या चौथा चरण के गले के कैंसर को शल्य चिकित्सा, विकिरण चिकित्सा और कीमोथेरपी के कुछ संयोजन की आवश्यकता हो सकती है। बाद के चरणों के अधिकांश कैंसर के इलाज में सर्जरी से स्वरयंत्र या ग्रसनी के हिस्से या पूरे गला या ग्रसनी को हटाने की आवश्यकता होती है। सर्जरी से स्वरयंत्र को हटाने को लरिनजैक्टमी कहा जाता है। ग्रसनी को या उसके हिस्से को सर्जरी से हटाने को फरिनजैक्टमी कहा जाता है। गले के कैंसर के लिए लरिनजैक्टमी सबसे आम सर्जरी है। अगर स्वरयंत्र का केवल एक हिस्सा निकाल दिया जाता है, तो भी रोगी बोलने की कुछ क्षमता खोता है और उसको आवाज का इस्तेमाल फिर से प्राप्त करने के लिये विशेष तकनीक या पुनर्निर्माण प्रक्रियाओं की आवश्यकता हो सकती है।

कैंसर के 10 लक्षण

यदि कैंसर की कोशिकाए स्वरयंत्र या ग्रसनी से परे और लिए गर्दन विच्छेदन सर्जरी की आवश्यकता होती है। इस सर्जरी में, लिम्फ नोड्स जिसमें कैंसर कोशिकाएं ज्ञात या संदिग्ध होती हैं, इससे पहले की कैंसर पूरे शरीर में फैले, कोशिकाओं को हटाने की कोशिश करते है। सर्जरी के बाद, विकिरण उपचार, शेष कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिये किया जा सकता है। गले के कैंसर के लिए उपचार के बाद, कुछ लोग आवाज एम्पलीफायर के साथ बोलने, सांस लेने की तकनीक और शल्य चिकित्सा के पुनर्गठन के नये तरीके सीखेंगे। क्योंकि ग्रसनी पाचन तंत्र का एक मार्ग है, फरिनजैक्टमी सर्जरी से गुजरे मरीजों को ग्रसनी को फिर से संगठित करने के लिये शल्य चिकित्सा की जरूरत हो सकती है।

Loading...

Leave a Reply