बहुत ही कम फल ऐसे होते हैं जो खाने में स्वादिष्ट होने के साथ ही साथ सेहत के लिए भी फायदेमंद होते हैं और प्लम(आलूबुखारा) उन्हीं में से एक है। इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट की मात्रा कई सारी बीमारियों जैसे ऑस्टियोपोरोसिस, आंखों के सूखेपन, कैंसर, डायबिटीज, और मोटापे से दूर रखने का काम करते हैं। बॉडी में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कंट्रोल करने के साथ ही कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ और सही इम्यूनिटी सिस्टम को बरकरार रखता है। ब्लड की क्लॉटिंग से बचाता है और इलेक्ट्रोलाइट को बैलेंस करता है, नर्वस सिस्टम को दुरुस्त रखने के साथ ही त्वचा की कई प्रकार के रोगों से सुरक्षा करता है।

plum

आलूबुखारा एक जूसी फल है जो बहुत से आकार और रंगों का बाजार में मिलता है। तकरीबन 2000 प्रकार के प्लम पूरी दुनिया में मौजूद हैं। इसे फ्रेश खाने के अलावा सूखाकर भी खाया जा सकता है। आलूबुखारे में मौजूद फेनॉल्स और फ्लेवोनॉइड्स सेहत के लिए हर तरीके से फायदेमंद है।

आलूबुखारे के औषधीय उपयोग

उदरकृमि : आलूबुखारे के पत्तों को पीसकर पेट पर लेप करने से पेट के कीड़े निकल जाते हैं |
पित्तविकार : भोजन से पूर्व आलूबुखारे के मीठे फल का सेवन करने से यह पित्त विकारों का शमन करता है |
अजीर्ण : इसके बीजों को बादाम की तरह शुष्क फल (dry fruits ) के रूप में खाने से अजीर्ण में लाभ होता है |
स्मृतिवर्धनार्थ : आलूबुखारे के बीज की गिरी का सेवन करने से धीरे-धीरे स्मरणशक्ति बढ़ती है |
नकसीर : आलूबुखारे के पत्तों का रस निकालकर १-२ बूँद नाक में डालने से नकसीर में लाभ होता है |
तृष्णा : आलूबुखारे का सेवन करने से प्यास व अरुचि का शमन होता है |

अन्य लाभ

दिल के लिए लाभदायक : आलुबुखारा, दिल के लिए काफी स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक होता है। इसको खाने से शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल नियंत्रित हो जाता है जिससे दिल की बीमारी होने का खतरा काफी कम हो जाता है। इसके सेवन से हार्टअटैक या हार्टस्‍ट्रोक्‍स आने का खतरा भी कम हो जाता है। इसमें ओमेगा 3 भी भरपूर मात्रा में होता है जो दिल को हेल्‍दी बनाता है।

Amla-for-heart-diseases

सुगर कंट्रोलर : खाना खाने से पहले या खाना खाने के बाद आलूबुखारा को आराम से खाया जा सकता है। इसके सेवन से शरीर में सुगर की मात्रा में बढोत्‍तरी नहीं होती है और ब्‍लड़ सुगर भी नियंत्रित रहता है। डायबटीज से ग्रसित मरीज भी इसे आसानी से खा सकते है। शरीर में सुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए यह सबसे अच्‍छा होता है।

diabetes word written by 3d hand

 

आंतों को राहत दें : आलूबुखारा खाने से पेट सम्‍बंधी समस्‍याएं कम होती है और पाचन क्रिया भी दुरूस्‍त रहती है। इसमें फाइबर भरपूर मात्रा में होते है जिससे शरीर स्‍वस्‍थ रहता है। इसमें फ्रैंडली बैक्‍टीरिया होते है जो शरीर की पाचन क्रिया को लाभ प्रदान करते है। इसके सेवन से पेट में भारीपन नहीं होता है और आंतों को भी आराम मिलता है।

मिनरल अव्‍जॉर्ब्‍शन : हाल ही में हुए एक अध्‍ययन में पता चला है कि आलूबुखारा के सेवन से शरीर में मिनरल ज्‍यादा मात्रा में शोषित होते है और शरीर को ज्‍यादा एनर्जी मिलती है।

आलुबुखारा को छिलना : आलूबुखारा में काफी ज्‍यादा मात्रा में एंटीऑक्‍सीडेंट होता है जो शरीर को कई बीमारियों से सुरक्षित रखता है और शरीर की प्रतिरक्षा क्षमता में इज़ाफा करता है। इसमें कई कैमिकल भी होते है जो शरीर में ब्रेन को काफी तेज बनाता है। ये फैट लेयर को भी प्रोटेक्‍ट करता है। कई बार शरीर की फैट लेयर अवांछनीय रेडिकल्‍स और टॉक्सिन से डेमेज हो जाती है लेकिन आलूबुखारा खाने से ऐसा नहीं होता है। इसके सेवन से शरीर से टॉक्सिन भी बाहर निकलने में मदद करता है।

त्वचा को बनाएं स्वस्थ और ग्लोइंग : आलू बुखारा में एंटीआक्सीडेंट की मौजूदगी के कारण इसके नियमित सेवन से स्किन ग्लो करने लगती है। इसे खाने से याददाश्त भी बेहतर होती है।

Portrait of Fresh and Beautiful woman with flower isolated on white

वजन नियंत्रित करना : जो लोग वजन कम करना चाहते है या डायटिंग पर है वह वजन कम करने के लिए आलूबुखारा का सेवन कर सकते है। इसके सेवन से फैट नहीं बढ़ता है और शरीर का वजन नियंत्रित रहता है। इसको खाने से हर समय मंचिग की आदत भी कम हो जाती है।

weight-loss

कोलेस्ट्रॉल के रोगियों के लिए फायदेमंद : आलू बुखारा में फाइबर अधिक पाया जाता है। यह कोलेस्ट्रॉल पर नियंत्रण रखता है। इसे खाने से आंतें दुरुस्त रहती हैं। साथ ही, लिवर से जुड़ी बीमारियां भी दूर रहती हैं।

रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी करता है : आलू बुखारा में विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है। यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है। जिन लोगों को सर्दी और जुकाम की समस्या ज्यादा रहती है, उन्हें आलू बुखारा का नियमित सेवन करना चाहिए।

आंखों को बनाए हेल्दी : आलू बुखारा में विटामिन ए पाया जाता है। इसके सेवन से आंखों की समस्याएं दूर होती हैं।

eyes

कैंसर को रोकने मदद करता है : आलू बुखारा में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। साथ ही, इसमें बीटा कारटोनेस भी होता है। यही कारण है कि इसे खाने से कैंसर की कोशिकाएं एक्टिव नहीं होती हैं।

डाइजेस्टिव सिस्टम को स्वस्थ बनाता है : आलू बुखारा में फाइबर उपस्थित होने के कारण इसके नियमित सेवन से डाइजेस्टिव सिस्टम स्वस्थ रहता है।

Loading...

Leave a Reply